मर्दो में कमजोरी की समस्या को दूर करेंगे ये आयुर्वेदिक नुस्खे

 
वर्तमान समय की व्यस्ततम जीवनशैली और गलत खानपान ने व्यक्ति को तनाव और कई बीमारियाँ दी हैं। इस तनाव की वजह से व्यक्ति को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं जैसे कि नपुंसकता, स्वप्नदोष, धातु दोष आदि। इन समस्याओं की वजह से पुरुषों में कमजोरी और यौन शक्ति में कमी सामने आती हैं। इससे छुटकारा पाने का सबसे अच्छा जरिया हैं आयुर्वेद। इसलिए आज हम आपके लिए कुछ असी आयुर्वेदिक उपाय लेकर आए हैं जो पुरुषों में कमजोरी की समस्या को दूर कर उनकी यौन शक्ति बढाने में मदद करते है। तो आइये जानते है आयुर्वेद के इन नुस्खों के बारे में...

अश्वगंधा
 


अश्वगंधा का चूर्ण, असगंध तथा बिदारीकंद को 100-100 ग्राम की मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बना लें। चूर्ण को आधा चम्मच मात्रा में दूध के साथ सुबह और शाम लेना चाहिए। यह मिश्रण वीर्य को ताकतवर बनाकर शीघ्रपतन की समस्या से छुटकारा दिलाता है।

कौंच का बीज
 


100 ग्राम कौंच के बीज और 100 ग्राम तालमखाना को कूट-पीसकर चूर्ण बना लें फिर इसमें 200 ग्राम मिश्री पीसकर मिला लें। हल्के गर्म दूध में आधा चम्मच चूर्ण मिलाकर रोजाना इसको पीना चाहिए। इसको पीने से वीर्य गाढ़ा हो जाता है और नामर्दी दूर होती है।

शंखपुष्पी
 


शंखपुष्पी 100 ग्राम, ब्राह्नी 100 ग्राम, असंगध 50 ग्राम, तज 50 ग्राम, मुलहठी 50 ग्राम, शतावर 50 ग्राम, विधारा 50 ग्राम तथा शक्कर 450 ग्राम को बारीक कूट-पीसकर चूर्ण बनाकर एक-एक चम्मच की मात्रा में सुबह और शाम को लेना चाहिए। इस चूर्ण को तीन महीनों तक रोजाना सेवन करने से नाईट-फाल (स्वप्न दोष), वीर्य की कमजोरी तथा नामर्दी आदि रोग समाप्त होकर सेक्स शक्ति में ताकत आती है।

सफेद मूसली
 


सालम मिश्री, तालमखाना, सफेद मूसली, कौंच के बीज, गोखरू तथा ईसबगोल- इन सबको समान मात्रा में मिलाकर बारीक चूर्ण बना लें। इस एक चम्मच चूर्ण में मिश्री मिलाकर सुबह-शाम दूध के साथ पीना चाहिए। यह वीर्य को ताकतवर बनाता है तथा सेक्स शक्ति में अधिकता लाता है।

From around the web

>