कोरोना काल में जरूर रखें इन 5 जरूरी बातों का ध्यान, सेहत के लिए हैं बहुत जरूरी!

 

इस कोरोनाकाल में जिस शब्द पर सबसे ज्यादा ध्यान दिया गया हैं वो हैं आपकी इम्यूनिटी जो कि आपके शरीर की आंतरिक शक्ति होती हैं और बीमारियों से लड़ने में मदद करती हैं। इस कोरोनाकाल में लगातार सलाह दी जा रही हैं कि अपनी इम्युनिटी को बढ़ाया जाए। लेकिन इसी के साथ आपको उन बातों को भी जानना जरूरी हैं जो आपकी इम्युनिटी को प्रभावित करते हुए कमजोर कर रही हैं। आज इस कड़ी में हम आपके लिए कुछ जरूरी बातों की जानकारी लेकर आए हैं जिनका ध्यान रखना आपकी सेहत के लिए बहुत जरूरी हैं।

- इस महामारी काल में लंबे समय तक लगाए गए लॉकडाउन की वजह से लोगों में काफी आलस्य आ गया है। लोगों के सोने और जागने का समय भी प्रभावित हुआ है। बहुत सारे लोग अभी भी ना समय पर उठते हैं और ना ही वर्कआउट कर रहे हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक ये गलतियां महंगी पड़ सकती हैं। वर्कआउट करने से एंटीबॉडी और व्हाइट ब्लड सेल्स यानी सफेद रक्त कोशिकाओं का उत्पादन बढ़ता है, जो हमारी इम्यूनिटी को मजबूत करता है।

- आपकी इम्यूनिटी का सीधा संबंध आपके खानपान से है। आप क्या खाते-पीते हैं, इसका सीधा असर आपके शरीर पर पड़ता है। इसलिए आपको अपने खानपान में विटामिन, मिनरल्स, कार्बोहाइड्रेड, प्रोटीन आदि पोषक तत्वों से भरपूर चीजें शामिल करनी चाहिए। इसके लिए आप किसी डाइटिशियन से संपर्क कर सकते हैं। खानपान में एल्कोहॉल, गुटखे, धूम्रपान जैसी गलत चीजों की आदत छोड़ देना ही बेहतर है।

- सुबह की धूप लेना आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। सूर्य का प्रकाश विटामिन डी का शानदार स्रोत है। सुबह जल्दी उठ कर आप हल्की धूप में टहल सकते हैं। आप सोसाइटी के पार्क में या फिर अपने छत पर इस हल्की धूप में व्यायाम कर सकते हैं, योगासन कर सकते हैं। यह आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा और इससे आपकी इम्यूनिटी मजबूत होगी।

- कोरोना काल में जिन्हें यह लगता है कि बाहर नहीं निकलने या घर पर रहने से वे संक्रमण से बचे रहेंगे, तो वे गलत हैं। घर पर पड़े रहने से भी सबकुछ ठीक नहीं होने वाला। इसलिए घर पर पड़े मत रहें। दौड़ना या टहलना आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है। यह कई तरह की बीमारियों से बचाता तो है ही, आपकी इम्यूनिटी पर भी इसका सकारात्मक असर पड़ता है। नियमित टहलना या रनिंग करना आपकी इम्यूनिटी को मजबूत करता है।

- अच्छी नींद का न लेना भी आपकी इम्यूनिटी पर असर डालता है। नींद पूरी न हो तो दिनभर आलस्य बना रहता है। आप जब डॉक्टर के पास भी जाएंगे तो वे आपको छह से आठ घंटे की नींद लेने की सलाह देते हैं। इसलिए देर रात तक जागने और सुबह देर तक सोने की आदत छोड़ दें। पूरी नींद लें, ताकि दिनभर शरीर एक्टिव रहे।

From around the web

>