जानिए कैसे? कच्‍चे बादाम से ज्‍यादा फायदेमंद होते हैं भीगे बादाम!

 
विटामिन ई, फाइबर, ओमेगा-3 फैटी एसिड और प्रोटीन की मौजूदगी के कारण बादाम को सूपरफूड कहा जाता है। इनमें प्रोटीन की मात्रा भी पाई जाती है, जिन्हें खाने में शामिल करने से आप काफी लंबे समय तक भरा पेट महसूस करते हैं। इनमें मैग्नीज भी पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूत करते हुए ब्लड शुगर लेवल को बनाए रखने में मदद करते हैं। जिन लोगों को उच्च रक्तचाप की समस्या होती है, उनके लिए यह काफी लाभकारी होते हैं। बादाम खाने से मांसपेशियां और नर्व फंक्शन बेहतर होता है।

कच्चे बादाम और पानी में भीगे बादाम - हर रोज सुबह आपकी मां आपको पानी में भीगे बादाम छीलकर खिलाती हैं, तो शायद वह ठीक कर रही हैं। क्‍योंकि कच्चे बादाम और पानी में भीगे बादाम में से अगर एक को चुनना हो, तो वह उसके स्वाद के लिए, बल्कि एक हल्दी ऑपशन को चुनना होगा। आपकी मां स्‍वाद नहीं बल्कि सेहत को ध्‍यान में रखकर ही ऐसा करती है।

क्यों भीगे बादाम बेहतर विकल्प है? - जी हां भीगे बादाम ज्‍यादा बेहतर होता है, क्‍योंकि बादाम के ऊपर मौजूद ब्राउन छिलके में टैनिन होता है, जो पोषक तत्वों को बादाम के अंदर आने से रोकता है। जब आप बादाम को पानी में भिगोते हैं, तो उसके ऊपर का छिलका आराम से उतर जाता है, जिससे बादाम में मौजूद सभी पोषक तत्व आपके शरीर को आसानी से मिल जाते हैं।

कैसे भिगोएं? - थोड़े से बादाम को आधा कप पानी में भिगोएं। ढक कर करीब आठ घंटे के लिए इन्हें भीगे रहने दें। सुबह पानी निकालकर बादाम से छिलका उतार लें और प्लास्टिक के टाइट बंद डिब्बे में भरकर रखें। पानी में भीगे हुए बादाम को अगर आप छिलकर स्टोर करते हैं, तो वह एक हफ्ते तक आप खाने में शामिल कर सकते हैं।

From around the web

>