जानिए उस चीज के बारे में जो आपके पुराने से पुराने दर्द को चुटकियों में दूर भगा देगी

 

हमारे देश भारतवर्ष में प्राकर्तिक जड़ीबूटियों का अनेको तरह से उपयोग किया जाता है, दोस्तो जैसा कि आप जानते हो कि भारत की मशहूर मेडिकल ग्रंथ आयर्वेद में ऐसी ऐसी जड़ीबूटियों का बखान किया गया है जो मनुष्यों को उनके जीवन मे अनेक रोगों का इलाज करने की विधि बताई गई है।

दोस्तो आज मैं आपको जिस चीज के बारे में बताने जा रहा हूँ उसका नाम है आमा हल्दी। जी हां दोस्तो आमा हल्दी को कई जगह दारुहल्दी तो कई जगह अमबाहलद भी बोला जाता है, नाम अलग अलग है पर चीज एक ही है। दोस्तो इस चीज में ऐसे ऐसे गुण पाए जाते है कि मनुष्य इसका इस्तेमाल कर के अपने जीवन मे अनेको विकारों का इलाज चुटकियो में कर सकता है। 


दोस्तो आमाहल्दी की खेती भारत के लग-भग सभी राज्यो में की जाती है, इसकी जड़ो में जो गांठे होती है उनमें से आम जैसी महक आने के कारण इसे आमा हल्दी के नाम से जाना जाता है। दोस्तो इस चीज में बहुत से विकारों को दूर करने के गुण मौजूद होने के कारण इसको आयुर्वेद में एक महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। अलग-अलग रोगों में इसका उपयोग अलग -अलग तरीके साथ कुछ अन्य चीजो के साथ किया जाता है।

अगर आपके दांतो में दर्द है तो इसको पीसकर इसका चूर्ण बनाकर इससे मंजन बनाया जाता है। इसका इस्तेमाल आपको 15 दिनों तक करना है। अगर आपके पेट मे दर्द होता है तो अदरक के साथ काली मिर्च और आमाहल्दी मिलाकर इसका सेवन करने पेट दर्द को तुरंत ठीक किया जा सकता है। दोस्तो वैसे तो आमाहल्दी को चोट लगने से होने वाले दर्द के लिए रामबाण इलाज माना जाता है।

अगर दोस्तो आपको कभी भी किसी भी प्रकार की चोट लगी है उसका दर्द आपको परेशान करता है तो आपको बस सिर्फ आमा हल्दी का लेप उस जगह कर लेना है जहां आपको दर्द होता है। दर्द दूर गर्ने में इस औषधि का कोई साहनी नही है। लेप तैयार करने के लिए आमा हल्दी को पीसकर उसको हल्के गर्म या फिर गुनगुने पानी मे भिगो दें। मिश्रण न तो ज्यादा गाढा हो और ना ही पतला। ऐसा आपको 2 से 3 बार करना है और फिर देखो कैसे आपका दर्द कैसे दूर भाग जाता है।

From around the web