बस इसके 1 पत्ते को मोजे में डालकर पहन लो, फिर जो होगा वो जानकर हैरान हो जाएंगे आप

 

आक के पौधे का औषधि के रूप में सफेद फूलों का उपयोग अधिक किया जाता है। इस पौधे के दूध में गर्भपात कारक, स्पाज्मोजेनिक और कारमेटिव, एंटी-डिसेन्ट्रिक, एंटी-सिफिलिटिक, एंटी-रूमेटिक, एंटीफंगल और डायफोरेटिक गुण होते हैं, और इसके क्या फायदे हैं तो चलिए आपको बताते हैं

यदि आप डायबिटीज के पेशेंट है तो आप को आप के पत्ते को अपने पैर के मोजे में पहन कर डाल ले फिर इसे रात होने पर निकाल दे जिससे आपको डायबिटीज में आराम मिलेगा।


यदि आप जोड़ों की समस्याओं से परेशान रहते हैं तो प्रभावित जगह पर आक की पत्तियों को बांधें।

इसमें प्रदाह (जलन-सूजन) कम करने वाले गुण होते हैं जो गठिया और संधिशोथ (Rheumatism) जैसी प्रदाह सम्बन्धी बीमारियों के इलाज में उपयोगी हैं। तुरंत राहत पाने के लिए इसकी पत्तियों को गर्म कर जोड़ों पर लगाएं।

चेहरे के दाग धब्बों का इलाज करने के लिए, 3 ग्राम हल्दी को आक के पौधे के दूध के साथ मिलाकर प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं। इसके इससे खुजली से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। विभिन्न प्रकार के त्वचा रोगों का इलाज इससे हो सकता है।

यदि आप बवासीर की समस्या से पीड़ित हैं तो आपको आक का उपयोग करना चाहिए। बवासीर का इलाज करने के लिए, इस जड़ी बूटी का उपयोग बहुत ही लाभकारी होता है। इलाज के तौर पर बाहरी रूप से आक के दूध को बवासीर के ऊपर लगाएं।

From around the web