प्रेगनेंसी किट से कैसे कन्फर्म होती है प्रेगनेंसी, जानिए किस समय टेस्ट करना हैं सही

 

अगर आप बेबी प्लान कर रही हैं और उसी बीच आपके पीरियड्स मिस हो जाएं, तो मन में पहला सवाल यही आता है कि कहीं मैं प्रेगनेंट तो नहीं? आजकल इस सवाल का जवाब बहुत मुश्किल नहीं है, क्योंकि होम प्रेगनेंसी किट से ये टेस्ट घर में ही आसानी से किया जा सकता है। वैसे तो होम प्रेगनेंसी टेस्ट का रिजल्ट 99 पर्सेंट सही आता है, लेकिन कुछ मामलों में प्रेगनेंसी होने के बावजूद टेस्ट नेगेटिव आ जाता है। अधिकतर मामलों में ऐसा ठीक से चेक न करने की वजह से होता है। हालांकि इसको लेकर कुछ लोगों का कहना है प्रेगनेंसी किट में सही रिजल्ट सुबह टेस्ट करने पर ही आते हैं। यहां जानिए होम प्रेगनेंसी किट से जुड़ी ऐसी तमाम बातें जो आपके कई तरह के कन्फ्यूजन दूर कर सकती हैं।

सबसे पहले ये समझने की जरूरत है कि आखिर होम प्रेगनेंसी किट यूरिन के जरिए कैसे प्रेगनेंसी को कन्फर्म करती है। यूट्राइन लाइनिंग पर फर्टिलाइज एग के इंप्लांट होने के तुरंत बाद ह्यूमन कोरिओनिक गोनाडोट्रोपिन यानी एचसीजी हार्मोन रिलीज होता है। हर दो से तीन दिनों में इस हार्मोन की मात्रा बढ़ जाती है। होम प्रेगनेंसी किट यूरिन में इसी हार्मोन की मौजूदगी का पता लगाकर प्रेगनेंसी को कन्फर्म करती है। यदि हार्मोन मौजूद नहीं होता तो प्रेगनेंसी टेस्ट नेगेटिव आता है और यदि हार्मोन यूरिन में मौजूद होता है, तो प्रेगनेंसी टेस्ट पॉजिटिव हो जाता है।

प्रेगनेंसी किट के रिजल्ट आमतौर पर सही होते हैं, लेकिन जब आप कोई गलती करते हैं, तो ही इसके रिजल्ट गलत आते हैं। जैसे अगर आप पीरियड्स मिस होने के एक दो दिन के अंदर ही टेस्ट कर लेती हैं तो हो सकता है कि सही रिजल्ट न आएं। आमतौर पर विशेषज्ञों का मानना है कि सही परिणाम करीब पीरियड्स मिस होने के पांच दिन से सात दिन के अंदर आते हैं। इसके अलावा किट की एक्सपायरी डेट निकल जाने या टेस्ट ठीक तरह से न कर पाने की स्थिति में भी परिणाम पॉजिटिव होने के बावजूद नेगेटिव आ जाते हैं।

इस टेस्ट के लिए बेस्ट समय तो सुबह का होता है, जब आप उठकर पहली बार यूरिन के लिए जाती हैं क्योंकि इस समय पेशाब की मात्रा अधिक होने की वजह से एचसीजी हार्मोन की भी मात्रा ज्यादा होती है।

From around the web