मुंह और दांतों को स्वस्थ रखने के लिए कितनी मात्रा में करें टूथपेस्ट का इस्तेमाल?

 
ब्रश करते वक्त हम सभी सोचते हैं कि जितना ज्यादा कोलगेट का इस्तेमाल करेंगे दांत उतना ही साफ होगा। लेकिन ऐसा नहीं है बल्कि कोलगेट का ज्यादा इस्तेमाल करने से दांतों को नुकसान पहुंचता है। टूथपेस्ट का इस्तेमाल मुंह और दांत को स्वस्थ रखने के लिए किया जाता है। लेकिन इसकी ज्यादा मात्रा दांतों के लिए नुकसानदायक होता है।

सभी डेंटिस्टों का मानना है कि ब्रश पर कोलगेट का इस्तेमाल मटर के दाने के बराबर करना चाहिए। ज्यादा मात्रा में टूथपेस्ट व्यस्कों के मुकाबले बच्चों को ज्यादा नुकसान पहुंचाता है।  टूथपेस्ट में मौजूद फ्लोराइड दांतों को मजबूती देता है। मगर दांतों पर लगे प्लाक और गंदगी को टूथब्रश ही साफ करता है।

सामान्य तौर पर डेंटिस्ट मानते हैं कि कोलगेट का इस्तेमाल मटर के दाने के बराबर करना चाहिए। जबकि बच्चों के लिए तो इतना कोलगेट भी खतरनाक है। क्योंकि बाजार में मिलने वाले टूथपेस्ट में फ्लोराइड की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। 

छोटे बच्चों के लिए इतनी मात्रा में फ्लोराइड वाला टूथपेस्ट खतरनाक होता है। इसलिए आप उनको बहुत ही कम मात्रा में टूथपेस्ट दें या फिर बाजार से बच्चों के लिए बनाया जाने वाला विशेष टूथपेस्ट खरीदें। 

अधिकांश लोग सोचते हैं कि कोलगेट जितना ज्यादा झाग बनाएगा, आपके दांत और मुंह उतना ही ज्यादा साफ होंगे। लेकिन ऐसा नहीं है। क्योंकि दांतों को साफ करने का मुख्य काम टूथ ब्रश करता है। टूथपेस्ट का झाग मुंह में बनने वाले जर्म्स को दूर करता है और मुंह का पीएच लेवल घटाता है।

From around the web

>