पपीता का इस तरह से सेवन करने से ठीक हो जाती है ये गंभीर बीमारी

 

पपीता एक बहुगुणी फल है। वैसे तो इसे हम सब्जी के रूप मे भी खाते है लेकिन पक जाये तो एक स्वादिष्ट मीठा फल। पपीता एक ऐसा फल है जिसे बीमार व्यक्तियों को जादा खिलाया जाता है। इसका एक मुख्य कारण इसमे पौष्टिक तत्वो से भरा हुआ होना है। आयुर्वेद मे पपीता के बहुत से औषधीय गुणों को बताया गया है। पपीता मे सोडियम, पोटैशियम, फाइवर, सुगर, प्रोटीन, विटामिन ए, विटामिन सी, कैल्शियम, आयरन, विटामिन डी, विटामिन बी6, कोबालामाइन, और मैग्नीशियम जैसे बेशकीमती पोषक तत्व भरपूर मात्रा मे होते है।

पपीता के सेवन से एक बड़ी बीमारी ठीक हो जाती है। पपीता लिवर के लिए एक टॉनिक का काम करता है, जो की लिवर से जुड़ी सारी बीमारियो को ठीक करता है। लिवर हमारे शरीर के मुख्य अंगो मे से एक है। पपीता लिवर मे हुए इंफेक्शन को खत्म करता है और इसे सुचारू रूप से काम करने के लिए फिर से रिपेयर करता है।


जानकारी के लिए आपको बता दें की लिवर मे इंफेक्शन होने से जॉन्डिस जैसी घातक बीमारी होती है। पपीता का सेवन इस बीमारी मे बहुत लाभप्रद होता है। इसीलिये डॉक्टर भी जॉन्डिस के मरीज़ों को पपीता खाने की सलाह देते है। लेकिन पपीते के सेवन का एक और तरीका है जिसमे यह और भी प्रभाशाली हो जाता है। कच्चा पपीता जॉन्डिस व पेट रोग के लिए रामबाण औषधि है।

कच्चा पपीता का भर्ता बना लें फिर इसमे थोड़ी सी हल्दी व नमक डाल कर मिला लें। ध्यान रहे की इसमे तेल और मिर्च नही मिलाना है। जॉन्डिस मे तेल मसाला मिर्च काफी खतरनाक होता है। पपीते का भर्ता जॉन्डिस रोग मे बहुत फायेदेमंद होता है। इसके अलावा जिन लोगों को पाचनतंत्र संबंधी रोग है उन्हें भी पपीते का भर्ता खाना चाहिये। यह पेट व लिवर को मज़बूत बनाता है और इनसे जुड़ी सारी बीमारियों का नाश करता है।

From around the web