बेसन की रोटी कैंसर और डायबिटीज के खतरों को कम करता है

 

बेसन के गरमा गरम चटपटा पकोड़े तो आप खाते होंगे और बेसन की कढ़ी भी खाया होगा लेकिन आज के  पोस्ट में हम आपको बेसन की रोटी के कई सारे फायदों के बारे में बताएंगे। इसे खाने के बाद आप आंटे की रोटी खाना भूल जाएंगे। 

अगर आप मधुमेह यानी कि डाइबिटीज से ग्रसित हैं तो फिर आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना चाहिए।  डायबिटीज से ग्रसित व्यक्ति को ऐसा देखा गया है कि उसे भूख बहुत लगती है लेकिन वैसे रोगियों को जल्दी-जल्दी खाना नहीं खाना चाहिए।  ऐसे में आपको इस तरह का खाना खाना होगा जो लंबे समय तक आपका पेट को भरे रखें इसके लिए आप बेसन की रोटी को अपने डाइट में शामिल कर सकते हैं.  साथ ही अगर आप अपने वजन को कम करना चाहते हैं तो भी आप बेसन की रोटी कम से कम सप्ताह में दो या 3 दिन तो जरूर खाएं।


⇒  बेसन के अंदर प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है इसलिए यह लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला होता है।  कई नौजवान दोस्तों को अपने मसल बनाने का बहुत ही शौक होता है ऐसे दोस्तों को हम सलाह देते हैं कि आप बेसन की रोटी जरूर खाएं या आपके शरीर के ग्लूकोस लेवल को भी बैलेंस कर सकता है 

⇒ कई महिलाओं को पीरियड के दौरान पेट में अक्सर दर्द रहता है ऐसी महिलाएं बेसन की रोटी  अपने डाइट में शामिल कर सकती हैं क्योंकि इसके अंदर आयरन प्रचुर मात्रा में होता है जिसके कारण आपको हेवी ब्लीडिंग भी नहीं  होती है. गेहूं के आटे में जिलेटिन होता है जो कई सारे प्रॉब्लम क्रिएट कर सकता है इसीलिए आपको बेसन की रोटी खाना चाहिए। 

⇒  गर्भवती महिलाओं को भी  बेसन की रोटी खाना चाहिए क्योंकि यह जच्चा और बच्चा दोनों के लिए लाभकारी होता है.  बेसन के अंदर आयरन और फोलिक प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो जन्मजात शिशु को बीमार होने से बचाता है.

⇒ कई  सारे लोग तनाव में रहने के कारण उनको नींद नहीं आती है, नींद नहीं आने के कारण वह  परेशान और अशांत रहते हैं. ऐसे लोगों को बेसन की रोटी अपने खाने में शामिल करना चाहिए क्योंकि बेसन के अंदर एमिनो एसिड ट्रिप्टोफैन और सेरोटोनिन मौजूद होते हैं जो आपके नींद संबंधी समस्याओं को दूर करते हैं

⇒ बेसन को दिमाग चार्जर भी कहा जाता है,  इसके अंदर एक ऐसा तत्व पाया जाता है जो हमारे दिमाग में मौजूद बुलेट ब्रेन सेल्स को एक्टिवेट करते रहता है. 

⇒   अगर आप शारीरिक रूप से कमजोर हैं तो ऐसे में आपको बेसन की रोटी जरूर खाना चाहिए क्योंकि आपके प्रोटीन टिशूज में होने वाली टूटफूट रिपेयर करने काक काम करता है.

⇒ जिन व्यक्तियों को ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी हो वैसे व्यक्ति को तो बेसन की रोटी रोजाना ही खाना चाहिए क्योंकि बेसन की रोटी में कैल्शियम मैग्नीशियम और फास्फोरस प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो हमारे हड्डियों को मजबूत बनाते हैं. 

⇒ बेसन  विटामिन ए और बी से भरपूर होता है साथ ही सेलेनियम और पोटेशियम भी जैसे खनिज पदार्थ वी इसके अंदर मौजूद होता है जो हमारे मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मुख्य भूमिका निभाते हैं. 

⇒ ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होने के कारण बेसन की रोटी खाने के बाद बहुत देर से ब्लड में पहुंचती है और ब्लड का लेवल बढ़  नहीं पाता। इसीलिए दोस्तों वजन कम करने में और डायबिटीज के खतरों को कम करने में बेसन बहुत सहायक है. 

नोट:  दोस्तों इस पोस्ट में बताई गई सारी सलाह आप को जानकारी देने के लिए है आप इसे चिकित्सा के रूप में प्रयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें. 

From around the web