इस ड्रिंक के सेवन के बाद 80 की उम्र में दिखेगी 25 वाली चमक, यकीन न हो तो एक बार आजमाकर देखें
 

 

हर किसी के जीवन में बुढ़ापा आता ही है और ये जीवन का परम सत्य है कि जो भी इंसान इस धरती पर जन्म लेता है उसका बुढ़ापा भी आना तय है और मृत्यु भी तय है लेकिन कई लोग ऐसे हैं जिन्हे बुढ़ापा बिल्कुल भी नहीं पसंद है और वो लोग चाहते हैं कि बुढ़ापा बिल्कुल न आए तो ऐसे में वो लोग बेहतर से बेहतर कई सारे ट्रीटमेंट कराते हैं जिसके जरिए वो बुढ़ापे को दूर रख सके लेकिन क्या आपको ये पता है कि ये ट्रीटमेंट जितने महंगे होते हैं उतने ही ज्यादा साइडइफेक्ट भी करते हैं। इसलिए आज हम आपको इन ट्रीटमेंट के बजाय कुछ ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं जो न ही नुकसान करेंगे और इससे आप 80 की उम्र में भी 25 साल के नौजवानों जैसे चमकेंगे। तो आइए जानते हैं आखिर क्या है वो उपाय

जिस उपाय के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं उसके लिए आपको जरूरत होगी सौंफ की जी हां जो कि खाने का स्वाद बढ़ाने में हो या माउथ फ़्रेशनर के रूप में हो अक्सर सौंफ़ का प्रयोग काफ़ी काम आता है और ये बेहद फ़ायदेमंद भी होता है। इतना ही नहीं इसे खाने के बाद पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए भी हम लोग सौंफ़ का प्रयोग करते आये हैं। वैसे ये भी बता दें कि सौंफ़ के ये सब प्रयोग तो ज़्यादातर लोगों को मालूम ही होंगे लेकिन आज हम आपको सौंफ की चाय के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके सेवन से आपकी उम्र 80 साल की अवस्था में भी चमकदार दिखेगी।

घरों में इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से मसाले के तौर पर किया जाता है। अचार और भरवां सब्जी बनाने में यह मुख्य रूप से प्रयुक्त होता है।सौंफ की तासीर ठंडी होती है इसलिए गर्मी में इसका इस्तेमाल बढ़ जाता है। सौंफ में कई ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो स्वस्थ रहने के लिए बहुत जरूरी होते हैं। सौंफ का सबसे बड़ा फायदा तो यह है कि यह याददाश्त बढ़ाता है और शरीर को ठंडा रखता है। सौंफ में कैल्शियम, सोडियम, आयरन और पोटैशियम जैसे कई खनिज तत्व पाए जाते हैं।

बताते चलें कि अगर आप सौंफ़ की चाय का सेवन करते हैं तो ये हमारे शरीर की बहुत सी बीमारियों से लड़ने के लिए मदद करती है इतना ही नहीं इसके सेवन से पेट संबंधी हर तरह के विकार मसलन एसिडिटी, गैस, क़ब्ज़ और कई तरहके विकार दूर होते हैं। इसे बनाने के लिए आप एक पैन में एक बड़ा कप पानी लें और एक चम्मच सौंफ उसमें डाल दें। इतना ही नहीं अब आप अब इसे तब तक पकायें जब तक कि आपके पानी का कलर न बदल जाये। जैसे ही पानी का रंग बदल जाये समझिए कि आपकी सौंफ़ की चाय तैयार है। इससे चेहरे का रंग भी निखरता है और लिवर स्वस्थ रहता है।

From around the web