मुहांसे हटाने वाली क्रीम से भी हो सकता है गर्भपात का खतरा, जानिए

 
गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को ज्यादा सर्तक होने की जरूरत होती है। क्योकि इस जच्चा और बच्चा दोनों का ख्याल रखना पड़ता है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओ की स्किन में भी बहुत बदलाव आते है। जैसे की मुँह पर मुहासे होना , एलर्जी का होना। ऐसे में आपके लिए जानना जरूरी है कि मुहांसे की समस्या दूर करने वाली क्रीम कैसे शिशु को नुकसान पहुंचा सकती है।

अक्सर बिना जानकारी के महिलाएं इनका इस्तेमाल करती हैं, जबकि इनके खतरनाक साइड इफेक्ट्स होते हैं। त्वचा द्वारा सोखे जाने के बाद क्रीम में मौजूद खतरनाक रसायन रक्त में मिलकर प्लेसेंटा या गर्भनाल (गर्भावस्था में मां को भ्रूण से जोड़ने वाली नली) के माध्यम से भ्रूण में पहुंच जाती है।

शोध के मुताबिक मुहासारोधी क्रीम में उत्पाद के तौर पर इस्तेमाल होने वाले सोडियम सल्फासेटामाइड, ट्रेटीनाइन, एडापेलीन और एजेलैक एसिड को नवजात शिशु के लिए खतरनाक बताया गया है जिसके कारण उसे एनीमिया (खून की कमी), पीलिया और दूसरी कई बीमारियां हो सकती हैं।

कैसे पहुंचाती हैं नुकसान
# गर्भावस्था में क्रीम के इस्तेमाल से पैदा हाने वाले बच्चे में कई तरह की विकृति आ सकती है
# त्वचा द्वारा सोखे जाने के बाद क्रीम में मौजूद खतरनाक रसायन रक्त में मिलकर प्लेसेंटा के माध्यम से भ्रूण तक पहुंच जाते हैं

From around the web