आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार इस समय के बाद फलों का सेवन नहीं करना चाहिए

 

वैसे तो फल स्वास्थ्य के लिए बेहद ही फायदेमंद होते हैं। फलों में विटामिन, मिनरल्स समेत कई तरह के पोषक तत्वों की अच्छी-खासी मात्रा होती है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी नियमित रूप से फलों का सेवन करने की सलाह देते हैं। यह व्यक्ति को ना सिर्फ शारिरिक तौर पर बल्कि मानसिक तौर पर भी स्वस्थ रखते हैं। हालांकि जिस तरह खाने का एक आदर्श समय होता है, उसी प्रकार फल खाने का भी एक आइडल समय होता है, जिससे शरीर ज्यादा से ज्यादा पोषक तत्वों को अब्जॉर्ब कर सकता है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार सूर्यास्त के बाद फलों का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि इसके कारण कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। हाल ही में लाइफस्टाइल कोच ल्यूक ने अपनी इंस्टाग्राम पोस्ट में इस बात का जिक्र किया था कि शाम के समय फलों का सेवन करने से ना सिर्फ पाचन क्रिया बाधित होती बल्कि नींद ना आने की समस्या भी हो सकती है। इसके अलावा फलों में मौजूद कार्ब्स के कारण ब्लड शुगर लेवल भी बढ़ सकता है। इससे आपकी नींद बाधित हो सकती है।

सुबह के समय फल खाना होता है फायदेमंद: स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक सुबह के समय खाली पेट फल खाना फायदेमंद होता है। क्योंकि रात में सोने के बाद जब व्यक्ति सुबह उठता है तो उसका पेट पूरी तरह से खाली रहता है। ऐसे में फलों का सेवन करने से शरीर को एनर्जी मिलती है।

भोजन के तुरंत बाद कर सकते हैं फलों का सेवन: एक्सपर्ट्स की मानें तो खाना खाने के तुरंत बाद फलों का सेवन करना नुकसानदेह नहीं होता। आप चाहें तो अपने खाने के साथ फलों को शामिल कर सकते हैं। खाना खाने के तुरंत बाद फलों का सेवन करने के बाद करीब 3.30 से 4 घंटे तक कुछ भी नहीं खाना चाहिए।

फलों का कभी भी डेयरी प्रोडक्ट्स और हरी सब्जियों के साथ सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि डेयरी प्रोडक्ट्स के साथ फल खाने से शरीर में विषाक्त पदार्थों का निर्माण होता है, जिससे आपका मेटाबॉलिज्म प्रभावित होता है।

From around the web