Dhankhar elected Vice President धनखड़ चुने गए उप राष्ट्रपति

नई दिल्ली। एनडीए के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ देश के नए उप राष्ट्रपति चुन लिए गए हैं। शनिवार को हुए चुनाव में उन्होंने विपक्ष की साझा उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा को बड़े अंतर से हराया। उप राष्ट्रपति के चुनाव में संसद के दोनों सदनों के 780 सदस्यों में से 725 सांसदों ने वोट डाला, जिसमें से 15 सांसदों के वोट अवैध हो गए। कुल 710 वैध वोटों में से धनखड़ को 528 और अल्वा को 182 वोट मिले। इस तरह धनखड़ ने 346 वोट के भारी भरकम अंतर से विपक्ष की साझा उम्मीदवार को हरा दिया और देश के 14वें उप राष्ट्रपति चुने गए।

राजस्थान के रहने वाले 71 वर्ष के धनखड़ फिलहाल पश्चिम बंगाल के राज्यपाल हैं। अब वे राज्यपाल पद से इस्तीफा देंगे और 11 अगस्त को देश के 14वें उप राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेंगे। ओबीसी समुदाय से आने वाले वे देश के पहले उप राष्ट्रपति हैं और दूसरे ऐसे उप राष्ट्रपति हैं, जिनका जन्म आजादी के बाद हुआ है। समाजवादी पृष्ठभूमि वाले जगदीप धनखड़ नब्बे के दशक में केंद्र सरकार में मंत्री रह चुके हैं।

उप राष्ट्रपति पद के लिए शनिवार को सुबह मतदान शुरू हुआ और शाम में वोटों की गिनती हुई। नतीजे आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जगदीप धनखड़ के आवास पर जाकर उनको बधाई और शुभकामना दी। राष्ट्रपति के चुनाव के मुकाबले उप राष्ट्रपति चुनाव में समीकरण बदला हुआ था। राष्ट्रपति चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को समर्थन दिया था। लेकिन इस बार तृणमूल कांग्रेस चुनाव से अलग रही। ममता बनर्जी के 34 सांसदों ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया, जिसकी वजह से अल्वा को मिले वोट का आंकड़ा दो सौ से नीचे रहा। ममता के दो सांसदों शिशिर और दिव्येंदु अधिकारी ने जगदीप धनखड़ को वोट किया।

राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करने वाली दो पार्टियों- आम आदमी पार्टी और झारखंड मुक्ति मोर्चा ने उप राष्ट्रपति के चुनाव में विपक्षी उम्मीदवार को वोट किया। इस वजह से द्रौपदी मुर्मू के मुकाबले जगदीप धनखड़ को सांसदों के वोट कम मिले। शनिवार को हुए मतदान में कुल 55 सांसदों ने वोट नहीं डाले। इनमें तृणमूल के 34 सांसदों के अलावा भाजपा, सपा और शिव सेना के दो-दो और बसपा के एक सांसद ने मतदान नहीं किया।

बहरहाल, शनिवार को संसद भवन में हुए मतदान में सभी पार्टियों के वरिष्ठ नेताओं ने मतदान किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा केंद्रीय मंत्रियों राजनाथ सिंह, अमित शाह और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने वोट डाला। कांग्रेस के दो सांसदों ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कांग्रेस सांसदों के साथ मतदान में हिस्सा लिया। पूर्व प्रधानमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता मनमोहन सिंह ने भी व्हील चेयर पर पहुंच कर वोटिंग की।