अप्रैल के बाद पेट्रोल 39 बार और डीजल 36 बार महंगे हुए

 

इस साल अप्रैल के बाद से अब तक पेट्रोल की कीमतें 39 बार बढ़ चुकी हैं. वहीं, डीजल के भाव 36 बार बढ़े हैं। सरकार ने लोक सभा में यह जानकारी दी है। इस दौरान पेट्रोल की कीमतों में एक बार और डीजल में दो बार कटौती की गई। पेट्रोल के भाव में 64 बार और डीजल में 66 बार कोई बदलाव नहीं किया गया। नॉन सब्सिडी एलपीजी की कीमत एक जुलाई तक एक बार बढ़ी है और एक बार घटी है। रामेश्वर तेली ने लोकसभा में एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी। विपक्ष ने मंत्रालय से सवाल पूछा था कि, क्या पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री कृपया बताएंगे? देश में कच्चे तेल की मौजूदा कीमतें और देश में पिछले एक साल के दौरान पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों में कितनी बार बढ़ोतरी हुई है। मंत्रालय के मुताबिक, भारत में एक बैरल क्रूड ऑयल की कीमत जुलाई में 74.36 डॉलर प्रति बैरल थी. जून में यह 71.98 बैरल प्रति डॉलर, मई में 66.95 डॉलर प्रति बैरल और अप्रैल में 63.40 डॉलर प्रति बैरल थी। राज्यों के हिसाब से पेट्रोल पर सबसे ज्यादा टैक्स मणिपुर (36.50 फीसदी) वसूल रहा है. वहीं, राजस्थान 36 फीसदी वैटऔर 1,500 ‎किलोलीटर सेस वसूल रहा है।

From around the web

>