अगले महीने से गाड़ी चलाना और खाना पकाना हो जाएगा महंगा

 
अगले महीने आम आदमी को महंगाई का एक और झटका लगने वाला है। दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में सीएनजी और पाइप से रसोई गैस की कीमतों में अगले महीने 10-11 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने एक रिपोर्ट में कहा कि सरकार अक्टूबर में गैस की कीमत में लगभग 76 फीसदी की बढ़ोतरी कर सकती है। गैस के दाम में बढ़ोतरी से गाड़ी चलाना और खाना बनाना महंगा हो जाएगा।आपको बता दें कि नई डॉमेस्टिक गैस पॉलिसी 2014 के तहत हर छह महीने में नेचुरल गैस की कीमतें तय की जाती हैं। यह फॉमूर्ला विदेशी कीमतों पर आधारित है। अगली समीक्षा 1 अक्टूबर को होगी। अक्टूबर के बाद अप्रैल 2022 में गैस की कीमतें तय होंगी।ब्रोकरेज ने कहा कि कीमत, जिसे अढट या एडमिनिस्टर्ड रेट कहा जाता है, 1 अक्टूबर, 2021 से 31 मार्च, 2022 की अवधि के लिए 3.15 अमेरिकी डॉलर प्रति मिलियन ब्रिटिश थर्मल यूनिटहो जाएगी, जो मौजूदा 1.79 डॉलर है।रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के केजी-डी6 और बीपी पीएलसी जैसे गहरे पानी के क्षेत्रों से गैस की दर अगले महीने बढ़कर 7.4 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू हो जाएगी।
बता दें कि नेचुलर गैस वह रॉ मेटेरियल है जिसे ईंधन के रूप में आॅटोमोबाइल में उपयोग के लिए कंप्रेस्ड नेचुरल गैस में कन्वर्ट किया जाता है या खाना पकाने के लिए घरेलू रसोई में पाइप किया जाता है।आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने एक रिपोर्ट में कहा है कि सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूटर्स को अक्टूबर में कीमतों में 10-11 फीसदी की बढ़ोतरी करनी होगी। अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में चलन के अनुसार, अप्रैल 2022 से सितंबर 2022 में अढट गैस की कीमत 5.93 अमेरिकी डॉलर प्रति ेइ३४ और अक्टूबर 2022 से मार्च 2023 के दौरान 7.65 अमेरिकी डॉलर प्रति े३४ होने की संभावना है।
गैस की कीमत में बढ़ोतरी से ओएनजीसी और आॅयल इंडिया लिमिटेड के साथ-साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड जैसी निजी कंपनियों के मार्जिन को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।

From around the web