92 साल के इतिहास में पहली बार झारखंड की बेटियों ने लॉन बॉल्स में देश को गोल्ड मेडल दिलाया

0
24



कॉमनवेल्थ 2022 गेम्स : लवली चौबे व रूपा रानी तिर्की ने झारखंड का मान बढ़ाया

आसिफ़ नईम


ये भी पढ़ें …..

रांची: कॉमनवेल्थ 2022 गेम्स में झारखंड की बेटियों ने कमाल का प्रदर्शन करते हुए भारत के झोली में गोल्ड मेडल डाल दिया। 5वें दिन महिला लॉन बॉल्स के फाइनल में टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका को 17-10 से हराकर गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया। कॉमनवेल्थ गेम्स के 92 साल के इतिहास में पहला मौका है, जब भारतीय लॉन बॉल्स महिला टीम ने कोई मेडल जीता है। फाइनल मैच में भारतीय खिलाड़ी झारखंड की लवली चौबे, रूपा रानी तिर्की व नयनमोनी सैकिया ने शानदार प्रदर्शन किया। 1930 से कॉमनवेल्थ गेम्स की शुरुआत हुई। पहले टूर्नामेंट से ही लॉन बॉल्स कॉमनवेल्थ का हिस्सा है, लेकिन भारतीय महिला टीम कभी इसमें कोई भी मेडल नहीं जीत सकी थी। 2010 में नई दिल्ली में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय पुरुष और महिला टीम पहली बार लॉन बॉल्स के लिए क्वालिफाई कर सकी थी।

लवली लीड में थीं, रूपा स्किप में

भारतीय महिला टीम में लवली चौबे (लीड), पिंकी (सेकेंड), नयनमणि सैंकिया (थर्ड) और रूपा रानी तिर्की (स्किप) ने अपने हुनर का शानदार प्रदर्शन किया। इन खिलाड़ियों में से लवली और रूपा रानी झारखंड से हैं। इससे पूर्व 1 अगस्त को सेमीफाइनल में भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड को 16-13 से हराकर फाइनल का सफर तय किया था। इन खिलाड़ियों की उपलब्धि पर झारखंड के खेलप्रेमियों में शोक की लहर है।

झारखंड पुलिस में कांस्टेबल हैं लवली व खेल विभाग में हैं रूपा
भारतीय लॉनबॉल टीम में शामिल 38 वर्ष की लवली चौबे झारखंड पुलिस में कांस्टेबल हैं। लवली 100 मीटर की फर्राटा धाविका थीं। वहीं, रूपा रानी तिर्की रांची से ही हैं और खेल विभाग में कार्यरत हैं।

आलमगीर आलम ने कहा, झारखंड के लिए गर्व का दिन
ग्रामीण विकास सह संसदीय कार्य मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि झारखंड की बेटियों ने एक बार फिर यह साबित कर दिया की खेल के क्षेत्र में झारखंड किसी से कम नहीं है। कॉमनवेलथ गेम्स के लॉनबॉल में झारखंड की लवली चौबे व रूपा रानी तिर्की ने गोल्ड जीतकर राज्य का मान सम्मान बढ़ा दिया।

Looks like you have blocked notifications!