HomeHealthहेल्थ एक्सपर्ट्स ने बताये मंकिपॉक्स और चिकनपॉक्स में अंतर् ,यहां जाने

हेल्थ एक्सपर्ट्स ने बताये मंकिपॉक्स और चिकनपॉक्स में अंतर् ,यहां जाने

 कोरोना के खतरे के साए तले दुनिया भर में इस संक्रमण से छुटकारा पाने की कोशिश कर रहे हैं वहीं अब पूरी दुनिया में एक नए वायरल संक्रमण ने दस्तक दी थी संक्रमण को वैज्ञानिकों ने मंकीपॉक्स का नाम दिया है सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के आंकड़े के  अनुसार अब तक 68 से अधिक देशों में 12556 से अधिक मामलों की पुष्टि की जा चुकी है 12333 केसेज  62 देशों से आए हैं जहाँ अभी तक कोविड संक्रमण अभी तक एंडेमिक नहीं बन पाया है। 

mnku

वही भारत में अब मंकीबॉक्स के एक संदिग्ध पता चला है मंकीपॉक्स इंफेक्शन  की वजह है अर्थोपोक्स जो स्मालपॉक्स या छोटे चेचक जैसा होता है हालांकि स्मालपॉक्स की तुलना में काफी कम गंभीर होता है ऐसे इंफेक्शन से जानवरों से इंसान तक फैल जाता है और एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक  प्रसार हो  सकता है  वही मंकिपॉक्स कुछ हद तक  संक्रमण कुछ हद तक चिकन पॉक्स से मिलता जुलता है हालांकि इनमें कुछ अंतर भी होते हैं। 

mnkey

डॉ.शरण्या नारायण, टेक्निकल डायरेक्टर और चीफ माइक्रोबायोलॉजिस्ट, न्यूबर्ग डायग्नोस्टिक ने बताया कि चिकन पॉक्स और मंकीपॉक्स  वायरस संक्रमण के लक्षणों में क्या अंतर होते हैं दोनों के अंतर को कैसे पहचाना जाता है मंकी पॉक्स और चिकन पॉक्स में सबसे बड़ा अंतर यही है कि दोनों एक वजह से नहीं होता होता चिकनपॉक्स वेरिसला-जॉस्टर वायरस वायरस की वजह से होता है   जबकि मंकीपॉक्स हर्पीज  वायरस परिवार से संबंधित है अलग-अलग जीवाणु और वायरस की वजह से दोनों संक्रमण होते हैं इसलिए वायरस के व्यवहार के आधार पर मरीजों के लक्षण और बीमारी की गंभीरता भी अलग अलग ही होती है। 

mnkey

सीडीसी के अनुसार मंकीपॉक्स और चिकन पॉक्स का सबसे प्रमुख लक्षण यह है कि चिकन पॉक्स की वजह से लिम्फ नॉड्स  में सूजन आती है वही मंकीपॉक्स में लिफ्ट नॉड्स का आकार बड़ा हो जाता है मंकीपॉक्स के लक्षण चिकन पॉक्स की तुलना में ज्यादा अधिक दिखते हैं  मंकी पॉक्स के लक्षण आमतौर पर 5 से 12 दिन में दिखाई देते हैं मंकी पॉक्स में 1 से 5 दिनों में  रैशेज  दिखाई देते हैं और धीरे-धीरे शरीर के अन्य हिस्सों पर फैलने लगता है जबकि चिकनपॉक्स धीरे-धीरे चेहरे के साथ-साथ शरीर के अन्य हिस्सों पर फैलने लगता है आमतौर पर सबसे पहले चेहरे पर दिखाई देता है और धीरे-धीरे शरीर के अन्य हिस्सों में  भी फैलने लगते है। 

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments