सांसद की शिकायत पर सीएमओ ने चिरैयाटांड के अधीक्षक को हटाया, डॉक्टर

0
27

बहराइच। विकास भवन सभागार में शनिवार को जिला विकास समन्यव समिति की बैठक आयोजित हुई। सांसद की शिकायत पर सीएमओ ने चिरैयाटांड के अधीक्षक को हटा दिया है। जबकि नानपारा सीएचसी के चिकत्सक और इंडिया हॉस्पिटल के संचालक के विरुद्ध जांच के एडीएम की अगुवाई में टीम गठित की गई है। जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति (दिशा) की बैठक सांसद कैसरगंज बृजभूषण शरण सिंह की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में हुई।

Advertisement

स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों की समीक्षा के दौरान सांसद ने प्रभारी चिकित्साधिकारी हुज़ूरपुर (चिरैय्याटांड) को हटाये जाने का निर्देश दिया। जबकि सांसद बहराइच ने कोविड के दौरान ऑक्सीजन सिलेण्डर आवंटन कार्य तथा सीएचसी नानपारा में चिकित्सक की लापरवाही की जांच कराये जाने की मांग पर डीएम डॉ. दिनेश चन्द्र ने कहा कि एडीएम, एसीएमओ व सीएमएस की संयुक्त टीम से जांच कराई जायेगी। चिकित्सक के प्रकरण में सीएमओ ने बताया कि चिकित्सक का वेतन बाधित किया गया तथा उसे हटाये जाने की कार्यवाही की जा रही है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना की समीक्षा के दौरान डीएम ने बताया कि अब तक 600 से अधिक अपात्र लोगों के कार्ड जमा करायें गये है। इस सदन द्वारा सराहना की गयी। मनरेगा योजना की समीक्षा के दौरान अध्यक्ष द्वारा निर्देश दिये गये कि अमृत सरोवर योजनान्तर्गत पुराने तथा प्राकृतिक तालाबों का चयन किया जाय। योजना के पूर्ण होने पर जनप्रतिनिधियों से उद्घाटन कराया जाय। नदियों की सिल्ट सफाई के कार्य हेतु नमामि गंगे योजनान्तर्गत नामित संस्था से जल्दी कार्य प्रारम्भ करने हेतु पत्राचार किया जाय। सिंह ने यह भी सुझाव दिया कि क्षेत्र पंचायतों से भी मनरेगा योजना अन्तर्गत कार्य कराया जाय। अध्यक्ष द्वारा ब्लाक प्रमुखों को सुझाव दिया गया कि प्रत्येक ग्रामों में उपयुक्त भूमि का चयन कर मल्टीपर्पज़ खेल का मैदान विकसित किया जाय।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की समीक्षा के दौरान बैंकों से अपेक्षित सहयोग न प्राप्त होने पर अप्रसनन्ता व्यक्त करते हुए लीड बैंक प्रबन्धक को निर्देश दिया गया कि बैंकों के स्तर पर लम्बित पत्रावलियों का शीघ्र निस्तारण कराया जाय। अध्यक्ष द्वारा यह भी सुझाव दिया गया कि अच्छा कार्य करने वाले समूहों की सूची जनप्रतिनिधियों को भी उपलब्ध करायी जाये ताकि स्वयं जनप्रतिनिधि भी मौके पर पहुॅच कर समूहों की हौसला अफज़ाई कर सकें। सांसद ने कहा कि उनके संज्ञान में आया है कि दाखिल-खारिज व बैंकों से सम्बन्धित ज्यादा समस्याएं हैं। इस सम्बन्ध में डीएम ने बताया कि निर्विवाद वरासत के प्रकरणों का स्वयं उनके द्वारा पर्यवेक्षण किया जा रहा है। अब तक 19777 के सापेक्ष 17907 खतौनी जारी की जा चुकी है। इस उपलब्धि के लिए सदन द्वारा सराहना की गयी।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की समीक्षा के दौरान सांसद बहराइच ने अधि.अभि. लो.नि.वि. को निर्देश दिया कि नई सड़कों के निर्माण हेतु वन विभाग से समन्वय कर अग्रेत्तर कार्यवाही सुनिश्चित करें। राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना की समीक्षा के दौरान जनप्रतिनिधियों की ओर से सुझाव प्राप्त हुआ कि प्रत्येक माह ब्लाक स्तर पर आयोजित बैठक में जिला स्तरीय अधिकारी भी सम्मिलित हों ताकि स्थानीय स्तर पर ही प्रकरणों का निस्तारण हो सके। डीएम द्वारा सभी सम्बन्धित अधिकारियों को बैठक में प्रतिभाग करने के निर्देश दिये गये।

बैठक में यह भी सुझाव प्राप्त हुआ पुनः एक बार दिव्यांगजनों को सर्वे कराकर वंचित लोगों को विभागीय योजनाओं से आच्छादित किया जाय। सांसद बहराइच द्वारा नगर क्षेत्र बहराइच व नानपारा में जल निकासी हेतु कार्ययोजना तैयार करने का सुझाव दिया गया। अध्यक्ष सिंह ने भारत संचार निगम को निर्देश दिया कि सीमावर्ती क्षेत्र में नेटवर्क की समस्या का समाधान करायें। बैठक के अन्त में सांसद ने जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों का आहवान किया कि बेहतर तालमेल व समन्वय के साथ टीम भावन से कार्य करते हुए आकांक्षात्मक जनपद को विकास के पथ पर आगे ले जायें। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित कल्याणकारी योजनाओं का लाभ सबका साथ, सबका विकास के सिद्धान्त पर बिना भेदभाव के सभी पात्र लोगों तक पहुंचाया जाय।

बैठक के दौरान मा. जनप्रतिधियों द्वारा जो महत्वपूर्ण सुझाव दिये गये है उसका पालन करते हुए जिले के विकास को गति प्रदान की जाय। जिलाधिकारी डॉ दिनेश चन्द्र द्वारा अभार व्यक्त करते हुए आश्वस्त किया गया कि अध्यक्ष की ओर से प्राप्त हुए निर्देशों तथा जनप्रतिनिधियों की ओर प्राप्त हुए सुझावों का अनुपालन सुनिश्चित कराया जायेगा। बैठक का संचालन पीडीडीआरडीए अनिल कुमार सिंह ने किया।

यह भी पढ़ें:-ऐशबाग सीएचसी की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को डीएम ने हटाया, जानें क्यों…