संविदा कर्मचारी हड़ताल पर, गहरा सकता है बिजली संकट

Advertisement

बरेली, अमृत विचार। अपनी मांगों को लेकर बिजली विभाग के संविदा कर्मचारी तीन दिन से मुख्य अभियंता कार्यालय में विरोध प्रदर्शन कर रहे है। ऐसे में बरेली मंडल में बिजली का संकट गहरा सकता है। इससे 15 लाख से अधिक उपभोक्ताओं को मोहर्रम और सावन में परेशानी हो सकती है।

Advertisement

बिजली विभाग के दो संगठनों की लड़ाई से सावन सोमवार और मोहर्रम के दौरान बिजली आपूर्ति बाधित हो सकती है। संविदा कर्मियों की हड़ताल और विरोध प्रदर्शन पर विवाद का असर साफ नजर आ रहा है। संविदा कर्मियों के ईएसआइसी कार्ड बनवाने, सेफ्टी उपकरण दिलाने, पूर्व में काटे गए वेतन को दिलाने और मृतक आश्रितों को नियमानुसार नियोजित कराने पर शुक्रवार को सहमति बन गई थी, लेकिन अवर अभियंता के साथ मारपीट करने के आरोपित रिंकू श्रीवास्तव, विशाल, प्रकाश और विक्की श्रीवास्तव की बहाली को लेकर मना कर दिया गया था। इस वजह से संविदा कर्मचारी विरोध पर डटे रहे।

Advertisement

संविदा कर्मियों के संगठन के जिलाध्यक्ष रिंकू श्रीवास्तव ने बताया कि उनके साथ जिन अवर अभियंताओं ने मारपीट की थी, उनके विरुद्ध भी कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही उनके साथियों की सेवाओं को बहाल किया जाए। उन्होंने कहा कि मांगे पूरी नहीं होने पर पूर्ण रूप से कार्य बहिष्कार करते हुए सभी संविदा कर्मचारी धरना प्रदर्शन करेंगे। इस मामले में मुख्य अभियंता आरके शर्मा ने बताया कि संविदा कर्मचारियों की जायज मांगों पर सहमति बनी थी, लेकिन कई लोगों पर दर्ज रिपोर्ट के मामले में विभाग कुछ नहीं कर सकता।

कार्य बहिष्कार में शामिल नहीं होने पर दी धमकी
किला उपकेंद्र के कर्मचारियों ने मुख्य अभियंता कार्यालय में धरना प्रदर्शन कर रहे लोगों से अपनी जान का खतरा बताया है। संविदा कर्मचारी सय्यद असलम अली ने बताया कि निविदा कर्मचारी किला बिजली घर पहुंचे। और कहने लगे हमारे धरने में शामिल हो नहीं तो अंजाम बुरा होगा। आरोप है कि तीन चार लोग और धक्का-मुक्की करने लगे। उसके बाद मारपीट की गई, जिससे घायल हो गए। मारपीट की शिकायत उन्होंने किला पुलिस से की है।

यह भी पढ़ें- बरेली कॉलेज के प्रवक्ता समेत 20 नए कोरोना मिले संक्रमित

Advertisement