शिवलिंग को फव्वारा बताने वाले श्री काशी करवत मंदिर के महंत ने छोड़ा पद, कहा- राजनीति की समझ नहीं, इसलिए हुआ शिकार

वाराणसी/ अमृत विचार। ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में मिले कथित शिवलिंग को फव्वारा बताने वाले श्री काशी करवत मंदिर के महंत गणेश शंकर उपाध्याय ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ उन्होंने इसकी जिम्मेदारी अपने छोटे भाई को सौंप दी है। फव्वारा वाले बयान पर विवाद बढ़ने के बाद उन्होंने यह फैसला लिया है।

Advertisement

इस दौरान उन्होंने कहा ‘मेरे बयान को तोड़-मरोड़ कर चैनलों पर चलाया गया, उससे काफी दुखी हूं। मुझे राजनीति की समझ नहीं। यही वजह रही कि मैं आसानी से शिकार हुआ। मैं काफी विचलित हूं। मेरी जगह पर छोटे भाई डॉ. दिनेश अंबाशंकर उपाध्याय अब काशी करवत के महंत होंगे।’ वहीं मस्जिद में हुए सर्वे की कार्रवाई के दौरान वजूखाने में मिले कथित शिवलिंग को लेकर कयासों का सिलसिला जारी है। कोई इसे शिवलिंग तो कोई फव्वारा बता रहा है।

यह भी पढ़ें:-ज्ञानवापी मस्जिद के बाद अजमेर शरीफ पर दावा, प्रताप सेना बोली- दरगाह एक शिव मंदिर था