वजीरगंज इलाके में कांवड़ियों पर हमला और पथराव, 18 घायल

Advertisement

बदायूं /वजीरगंज, अमृत विचार। आंवला के गौरी शंकर मंदिर में जलाभिषेक करके लौट रहे कांवड़ियों पर रास्ते में दूसरे समुदाय के लोगों ने हमला कर दिया। डीजे बजाने के लेकर बौखलाए ग्रामीणों ने कांवड़ियों को रोकने के बाद जमकर पीटा और पथराव किया। इसमें 18 कांवड़िया घायल हो गए। सभी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती किया गया। घटना की सूचना मिलने पर एसएसपी डा. ओपी सिंह और एसपी देहात सिद्धार्थ वर्मा सहित तमाम अधिकारी वजीरगंज जा पहुंचे।

Advertisement

लहरा लाड़पुर के कांवड़िया रामकिशोर की तहरीर पर 25 हमलावरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। एसपी देहात सिद्धार्थ वर्मा देर रात तक वजीरगंज में डेरा जमाए रहे। थाना वजीरगंज क्षेत्र के गांव लहरा लाड़पुर निवासी कांवड़िया ट्रैक्टर-ट्राली में कछला गंगा घाट से गंगा जल लेने के बाद बरेली के आंवला थाना क्षेत्र में गुलड़िया स्थित गौरी शंकर मंदिर जलाभिषेक करने गए थे। वहां से देर शाम 7:30 बजे डीजे पर बज रहे भजनों की धुन पर नाचते-झूमते अपने गांव लहरा लाड़पुर लौट रहे थे।

Advertisement

वहां से लौटते समय लहरा लाड़पुर की दूरी ज्यादा होने से कांवड़ियों ने शॉर्टकट रास्ता अपनाया। सभी कांवड़िया ट्रैक्टर- ट्राली और डीजे समेत वजीरगंज क्षेत्र के ही गांव दूबो से होकर गुजर रहे थे। कुछ कांवड़िया ट्रैक्टर-ट्राली में सवार थे और कुछ पैदल चल रहे थे। उनके कुछ महिलाएं भी थीं। उधर से गुजरते समय दूबो गांव के कुछ ग्रामीणों ने कांवड़ियों को रोका और विरोध करते हुए डीजे की आवाज कम करने को कहा। विवाद न बढ़े इसिलए कांवड़ियों ने डीजी की आवाज धीमी कर दी और जाने लगे।

कुछ दूर आगे बढ़ने पर उन्हें दूसरे समुदाय के लोगों ने दोबारा रोक लिया और गाली गलौज करते हुए अभद्र करने लगे। कांवड़ियों के विरोध करेन पर ग्रामीणां ने हाथापाई शुरू कर और फिर लाठी-डंडे से जमकर पीटा। इतने पर भी आक्रोश शांत नहीं हुआ तो जमकर पत्थराव किया। इसमें डेढ़ दर्जन से ज्यादा कांवड़िया घायल हो गए। इस बीच किसी ने इसकी सूचना वजीरगंज पुलिस को दे दी।

कुछ ही देर में वजीरगंज पुलिस मौके पर जा पहुंची ओर कांवड़ियों को बचाकर थाने ले जाया गया। कांवड़ियों के साथ मारपीट की सूचना मिलने पर एसपी देहात सिद्धार्थ वर्मा कई थानों की पुलिस के साथ मौके पर जा पहुंचे। पीएसी को भी बुला लिया गया। मगर तब तक हमलावर गांव छोड़कर भाग चुके थे। कांवड़िया रामसेवक पुत्र नन्नकू की तहरीर पर 25 आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई।

ये भी पढ़ें – बदायूं: हाइवे पर हुए अलग-अलग हादसे, सात कांवड़िए घायल

Advertisement