लाल सिंह चड्ढा को लेकर शुरू हो चुका है नैगेटिव कैम्पेन, इन तीन वजहों से हो रहा है विरोध

आमिर खान की फिल्म लाल सिंह चड्ढा 11 अगस्त को सिनेमाघरों में रिलीज़ होने के लिए तैयार है। लेकिन इस फिल्म की स्थिति ठीक नज़र नहीं आ रही है। इस फिल्म के खिलाफ अभी से ही नैगेटिव कैम्पेन शुरू कर दिया गया है। बॉयकॉट बॉलीवुड भी वापस से ट्रेंड करना शुरू हो गया है। आमिर खान और लाल सिंह चड्ढा को लेकर भी कई हैशटैग बन चुके हैं जो अब ट्रेंड कर रहे हैं।

ऐसे में फिल्म का जमकर विरोध किया जा रहा है। ऐसे में फिल्म को भी इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। इस नैगेटिव कैम्पेन के जिम्मेदार भी आमिर खान ही हैं। ऐसे कई कारण हैं जिससे दर्शक आमिर खान से नाराज़ नज़र आ रहे हैं। आमिर के हिंदू विरोधी बयान भी इसका बड़ा कारण हैं। आइए जानते हैं

दरअसल रिपोर्ट्स के मुताबिक आमिर का विरोध होने का कारण उनकी धार्मिक पहचान भी बताई जा रही है। सोशल मीडिया पर आमिर की फिल्मों में हिंदू धर्म से जुड़े सीन्स को साझा किया जा रहा है जिसमें उन पर हिंदू धर्म का मज़ाक बनाने और अपने धर्म को ऊपर दिखने का प्रयास किया जा रहा है। इस बात से भी दर्शक काफी नाराज़ नज़र आ रहे हैं। वहीं आमिर का बार बार तुर्की जाना और वहाँ के राष्ट्रपति एर्दोंगान और उनकी पत्नी से मिलना भी दर्शकों को पसंद नहीं आ रहा है।

तुर्की कई मौकों पर भारत के खिलाफ नज़र आता है और पाकिस्तान का साथ देता है। ऐसे में दर्शक भी ये जानना चाहते हैं कि आखिर आमिर खान एक राष्ट्रध्यक्ष से किस हैसियत से बार बार मुलाक़ात करने के पहुँच जाते हैं। इसके कारण भी आमिर के खिलाफ नैगेटिव कैम्पेन चल रहा है।

इसके अलावा आमिर राष्ट्रविरोधी बयान भी दे चुके हैं। आमिर ने कहा था कि उन्हें इस देश में रहने से डर लगने लगा है। वे भारत में खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं। लेकिन उनकी एक तस्वीर सामने आई थी जिसमें वे लश्कर ए तोयबा के साथ नज़र आ रहे थे। इसलिए भी दर्शक आमिर से काफी नाराज़ हैं।