लाइट नहीं होने से पूरा सिस्टम बंद था तो जनरेटर क्यों नहीं यूज किया, सीएसके की हार पर सहवाग ने सुनाई

0
45





मुंबई । आईपीएल 2022 के रोमांच के बीच मुंबई इंडियंस के खिलाफ ‘करो या मरो’ मुकाबले में चेन्नई को मिली हार के लिए सबसे अधिक जिम्मेदार डीआरएस को माना जा रहा है। मैच के शुरुआती कुछ समय तक डीआरएस उपलब्ध नहीं था। लाइट नहीं होने से पूरा सिस्टम बंद था और उसी समय डेवॉन कॉन्वे विवादित एलबीडब्ल्यू आउट हुए और चेन्नई डीआरएस नहीं ले सका।

इस पर वीरेंद्र सहवाग ने पूरे सिस्टम को जमकर लताड़ लगाई। उन्होंने डीआरएस के लिए जनरेटर का इस्तेमाल नहीं करने के लिए सवाल उठाया है। उन्होंने कहा, ‘यह आश्चर्यजनक था कि बिजली कटौती के कारण डीआरएस उपलब्ध नहीं था। यह इतनी बड़ी लीग है कि एक जनरेटर का उपयोग किया जा सकता है। जो भी सॉफ्टवेयर था, वह बैकअप के जरिए बिजली से चलाया जा सकता था। यह बीसीसीआई के लिए एक बड़ा सवाल है।’

उन्होंने कहा, ‘अगर बिजली कट जाती है तो क्या होगा? क्या जनरेटर केवल स्टेडियम की रोशनी के लिए है न कि ब्रॉडकास्टर्स और उनके सिस्टम के लिए? अगर मैच हो रहा था तो डीआरएस का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए था। या डीआरएस का इस्तेमाल पूरे मैच में नहीं किया जाना चाहिए था। अगर मुंबई पहले बल्लेबाजी कर रही होती तो उन्हें नुकसान होता।’ उल्लेखनीय है कि मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए

इस मैच में चेन्नई को हार की कगार पर पहुंचाने में जितना अहम रोल मुंबई के पेसर डेनियल सैम्स (3/16) का रहा, उतनी ही अहम भूमिका पावरकट ने भी निभाई। मैदान पर पावरकट होने की वजह से डीआरएस की सुविधा उपलब्ध नहीं थी और शुरुआती 1.4 ओवर तक चेन्नई के बल्लेबाजों को रिव्यू का विकल्प नहीं मिला। इन्हीं शुरुआती 10 गेंदों में चेन्नई ने तीन विकेट गंवा दिए। इसके बाद विकेट गिरने का सिलसिला रुका नहीं और टीम 97 के स्कोर पर ऑल आउट हो गई।







Previous articleसीएसके के कोच फ्लेमिंग बोले- ‘डीआरएस’ का न होना दुर्भाग्यपूर्ण, कुछ फैसले हमारे विरुद्ध हुए
Next articleधोनी ने हार के बाद भी टीम को सराहा