रूस ने परमाणु संयंत्र के पास के इलाके को बनाया निशाना, दागे 60 रॉकेट, 50 आवासीय इमारतें क्षतिग्रस्त

0
19

Advertisement

कीव। भीषण धमाकों से दक्षिणी यूक्रेन का शहर माइकोलीव गुरुवार को थर्रा उठा। देश के सबसे बड़े परमाणु संयंत्र के पास स्थित शहर को भी रूसी सुरक्षा बलों ने निशाना बनाया। यूक्रेन के राष्ट्रपति कार्यालय ने यह जानकारी दी। राष्ट्रपति कार्यालय के मुताबिक पिछले 24 घंटे के दौरान कम से कम चार आम नागरिक मारे गए और 10 अन्य घायल हो गए। यूक्रेन के कम से कम नौ क्षेत्रों में गोलाबारी की गई।

Advertisement

माइकोलीव के दो जिलों को भी हाल के सप्ताहों में लगातार निशाना बनाया गया है। यूक्रेन के अधिकारियों के अनुसार रूसी सुरक्षा बलों ने मध्य निप्रोपेटरोवस्क क्षेत्र के निकोपोल को 60 रॉकेट से निशाना बनाया। शहर में करीब 50 आवासीय इमारतें क्षतिग्रस्त हो गई। हमलों में बिजली लाइन के प्रभावित होने से बिजली आपूर्ति भी ठप हो गई। निकोपोल नाइपर नदी के किनारे स्थित है जहां पास में जापोरिजिया परमाणु संयंत्र है। रूस ने युद्ध के शुरुआती दिनों में इस संयंत्र पर कब्जा कर लिया था।

Advertisement

संयुक्त राष्ट्र परमाणु निगरानी एजेंसी के प्रमुख ने इस सप्ताह की शुरुआत में जापोरिजिया संयंत्र की स्थिति को लेकर चिंता व्यक्त की थी। राष्ट्रपति कार्यालय ने कहा कि उत्तरी यूक्रेन में, देश के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव को भी रूसी सुरक्षा बलों ने निशाना बनाया। शहर में कई औद्योगिक इकाइयों पर बमबारी की गई। पास के शहर चूहूइीव में पांच मंजिला आवासीय इमारत पर भी बमबारी की गई।

पूर्व में, दोनेत्सक क्षेत्र में सभी बड़े शहरों में आवासीय भवनों पर गोलाबारी की जा रही है और ओचेरेटीने गांव में एक स्कूल को नष्ट कर दिया गया। क्षेत्र में गैस, बिजली और पानी आपूर्ति प्रभावित हुई है जिस कारण से निवासियों को यहां से निकाला जा रहा है। दोनेत्सक क्षेत्र में अलगाववादियों का समर्थन कर रहे रूस ने कहा कि शहर के मध्य हिस्से में गोलाबारी में गुरुवार को दो लोगों की मौत हो गई और तीन अन्य घायल हो गए। रूसी सुरक्षा बल पड़ोस के लुहांस्क क्षेत्र पर पहले ही कब्जा कर चुके हैं।

ये भी पढ़ें:- तालिबान का दावा, अफगानिस्तान में अयमान अल-जवाहिरी की मौजूदगी से था अनजान

Advertisement