रवि शास्त्री ने युवी के छक्कों पर कहा, “मेरे छक्के अलग थे क्योंकि…”. याद किया वो यादगार पल

Ravi Shastri:v इंडियन क्रिकेट में जब भी छक्के लगाने की बात आती है तो लगभग सभी क्रिकेट फैंस युवराज सिंह के साल 2007 के वर्ल्ड कप में में लगाये छः गेंदों में छः छक्कों की याद आती है. इस यादगार पल पर इंडियन टीम के पूर्व कोच और दिग्गज खिलाडी रवि शास्त्री ने एक बड़ा रिएक्शन दिया है. उन्होंने युवराज और अपने 6 छक्को को याद करते हुए कहा की मेरे छः छक्के उस समय अलग थे.

Ravi Shastri ने युवी के छक्कों को याद किया

रवि शास्त्री ने युवी के छक्कों पर कहा, &Quot;मेरे छक्के अलग थे क्योंकि...&Quot;. याद किया वो यादगार पल

भारतीय टीम के पूर्व हेड कोच ने एक प्रोग्राम के दौरान युवी के वर्ल्ड में लगाये छक्कों को याद किया था. पूर्व बल्लेबाज़ युवराज सिंह ने इंग्लैंड के खिलाफ स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में 6 छक्के लगाकर इतिहास रच दिया था. शास्त्री भी इंडियन क्रिकेट इतिहास में रणजी ट्राफी के मैच में यह कारनामा पहले कर चुके है.

क्रिकेट मैच में एक ही ओवर में छः छक्के लगाना एक बहुत ही दुर्लभ घटना है. रवि शास्त्री भी ऐसा कर चुके है उन्होंने रेड द लॉन्ग गेम के नए एपिसोड के दौरान कहा,

“अब प्रथम श्रेणी क्रिकेट सफेद गेंद वाले क्रिकेट से अलग है.आप जानते हैं कि बड़ौदा के खिलाफ उस खेल में चौथा छक्का मारा गया था, आप जानते हैं कि मैं छह छक्के भी नहीं सोच रहा था. जिस क्षण 5वां लगा, जो शायद सबसे बड़ा था, क्योंकि यह वानखेड़े में मैदान के बाहर स्टैंड में चला गया.  फिर मैंने अपने सभी साथियों को स्क्रीन पर देखा और तब मुझे एहसास हुआ कि 6 छक्के मारने का अवसर है.”

मेरे छक्के अलग थे उनकी कवरेज नहीं है – रवि शास्त्री

Ravi Shastri

शास्त्री (Ravi Shastri) ने अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहा,“मेरे (Ravi Shastri) छह छक्के उस समय अलग थे, सिर्फ इसलिए कि उस समय कोई टेलीविजन नहीं था. विश्व कप में कपिल देव के 175 की तरह, कोई टेलीविजन नहीं, कोई कवरेज नहीं हुआ था. लेकिन छह छक्के बड़े थे, मुझे उस समय इसका एहसास नहीं हुआ और ना किसी को पता चला कि एक व्यक्ति ने छह छक्के मारे हैं और वह सर गारफील्ड सोबर्स के बाद छह छक्के मारने वाले दूसरे खिलाड़ी बने थे.”

मैं जनता था गेंदबाज़ अगली गेंद कहा डालेगा

रवि शास्त्री ने युवी के छक्कों पर कहा, &Quot;मेरे छक्के अलग थे क्योंकि...&Quot;. याद किया वो यादगार पल

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने अपने कारनामे को याद करते हुए कहा की उन्होंने आखरी छक्का लगाने से पहले गेंदबाजी को लेकर पूर्वानुमान लगा लिया था. उन्होंने अपनी बात करते हुए आगे कहा, “मैं बहुत स्पष्ट रूप से जानता था कि वह गेंदबाज कहां गेंदबाजी करेगा, इसलिए मैं हर तरफ शॉट खेलने के लिए तैयार था. इसलिए बाहर जाती गेंद को भी मैंने बाउंड्री के पार पहुंचा दिया था.”

उन्होंने कहा, “मैंने (Ravi Shastri) एक ओवर में छह छक्के मार दिए थे, क्योंकि मैंने उस पारी में 200 रन बनाए, जो कि प्रथम श्रेणी क्रिकेट में आज तक का सबसे तेज दोहरा शतक है. “

और पढ़िए:

जॉनी बेयरस्टो और जेमी ओवरटन ने इंग्लैंड के लिए तोडा 62 साल पुराना रिकॉर्ड, 200 रन से ज्यादा की पार्टनरशिप से टीम को संभाला

टी20 वर्ल्ड कप की टीम ने जडेजा के लिए जगह बनाना होगा बहुत मुश्किल, संजय मांजरेकर ने दिया ये बड़ा बयान

VIDEO: मैदान पर एक-दूसरे के विरोधी बने जडेजा-पंत, फिर भी नहीं भूले याराना