ये डाइट खाकर आप बढ़ रहे है डिप्रेशन की और ,यहां जाने क्या है डाइट और डिप्रेशन का संबंध

आप क्या खाते हैं इसका सेहत आपकी सेहत पर पड़ता है ऐसे मेंव पेस्ट्री जैसे प्रोसेस्ड कार्बोहाइड्रेट, फ्रेंच फ्राइज, सोडा और अन्य शुगर वाले खाद्य पदार्थ खाना शरीर में सूजन बढ़ाते हैं और डिप्रेशन के लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं दरअसल यह चीजें इन्फ्लेमेटरी फूड्स  है यानि ये चीजें जो शरीर में सूजन का कारण बनती है यह हम नहीं बल्कि द जर्नल ऑफ गेरोन्टोलॉजी का शोध  बता रहा ह। 

diprf

 मेडिकल साइंसेज में प्रकाशित इस नए अध्ययन में अवसाद, आहार और कमजोरियों के विकास के बीच एक संबंध पाया गया शोध ने बताया कि कैसे एंटी इन्फ्लेमेटरी डाइट डिप्रेशन का कारण बन सकते हैं इसके अलावा भी डाइट और डिप्रेशन का कनेक्शन शोध बहुत कुछ बताती है। 

dipoes

मेडिकल साइंसेज में प्रकाशित इस अध्ययन में पाया गया है  इंफ्लेमेटरी चीजों को खाना यानी कि ऐसे फूड्स को खाना जो कि शरीर में सूजन बढ़ाने का काम करते हैं वे डिप्रेशन को ट्रिगर करता है  इससे शरीर कई  शारीरिक  प्रणालियों में कार्य में गिरावट आती है और दस से पंद्रह पर्सेंट तक वयस्कों  को प्रभावित करती है और अक्सर अवसाद  जैसी समस्याओं का कारण बनती है इसके अलावा कुछ इंफ्लेमेटरी डाइट जैसे कि ट्रांस फैट खास कर कि हाइड्रोजनीकृत तेल से बनी चीजें दिमागी बीमारियों का कारण बनती है  इंफ्लेमेटरी डाइट शरीर में सूजनबढ़ाते हैं और कमजोरी पैदा करते हैं। साथ ही ये अवसाद का भी कारण बनते हैं। इसके अलावा कई शोधों में यह भी बताया है कि कैसे अवसादग्रस्त लक्षणों वाले व्यक्ति ऐसी डाइट के प्रति संवेदनशील होते हैं