यूरोप में तेजी से बढ़ रहा है मंकीपॉक्स, ‘महामारी’ घोषित करने पर छिड़ी बहस

0
242

लंदन। दुनियाभर में मंकीपॉक्स के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। यूरोप में मंकीपॉक्स के 100 के मरीज मिल चुके हैं। वहीं, इस ट्रेंड को गंभीरता से लेते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक इमरजेंसी बैठक की है। उस बैठक में कई मुद्दों पर विस्तार से चर्चा हुई। बहस इस बात पर भी रही क्या मंकीपॉक्स को महामारी घोषित कर देना चाहिए। इस समय यूरोप के कुल नौ देशों में मंकीपॉक्स ने जोरदार दस्तक दी है। जिनमें बेल्जियम, फ्रांस, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड, पॉर्चुगल, स्पेन, स्वीडन और ब्रिटेन। इसके अलावा अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा में भी मंकीपॉक्स के मामले बढ़ते जा रहे हैं।

Advertisement

ब्रिटेन सरकार ने की टीका खरीद की कवायद शुरू
ब्रिटेन में मंकीपॉक्स के मामले बढ़कर 20 हो गए हैं। तो वहीं ब्रिटेन सरकार ने इस वायरस की रोकथाम के लिए टीके खरीदने की कवायद शुरू कर दी है। ब्रिटेन की सरकार ने शुक्रवार को कहा कि मंकीपॉक्स के मामलों की संख्या में वृद्धि के बीच उसने चेचक के ऐसे टीकों की खरीद की कवायद तेज कर दी है जोकि इस संक्रमण के प्रसार की रोकथाम कर सके। मंकीपॉक्स भी चेचक जैसा ही संक्रमण है। ब्रिटेन की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी (यूकेएचएसए) ने कहा कि इंग्लैंड में मंकीपॉक्स के 11 और मामले पाये गए हैं, जिसके बाद देश में इस संक्रमण के मामलों की संख्या बढ़कर 20 तक पहुंच गई है। ब्रिटेन में इस महीने की शुरुआत में मंकीपॉक्स संक्रमण के मामले सामने आए थे।

संपर्क वाले व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है मंकीपॉक्स
जी-7 देशों के स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक के दौरान शुक्रवार को ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद ने कहा कि अधिकतर मामले हल्के संक्रमण के हैं। मैं यह पुष्टि कर सकता हूं कि हमने और अधिक मात्रा में उन टीकों की खरीद की है जोकि मंकीपॉक्स के खिलाफ प्रभावी हैं। मंकीपॉक्स का संक्रमण बेहद करीबी संपर्क वाले व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है। साथ ही ऐसे व्यक्ति द्वारा इस्तेमाल कपड़े या चादरों का उपयोग करने से संक्रमण फैल सकता है जोकि मंकीपॉक्स की चपेट में है।

मंकीपॉक्स संक्रमण का प्रसार का जोखिम कम
इस बीच, यूकेएचएसए ने जोर दिया कि ये वायरस आसानी से एक से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैल सकता और ब्रिटेन में मंकीपॉक्स संक्रमण के प्रसार का जोखिम बेहद कम है। यूकेएचएसए की मुख्य चिकित्सा सलाहकार डॉ सुसन हॉप्किंस ने कहा कि हम सामने आए मरीजों के करीबी संपर्क वाले लोगों की पहचान कर उन्हें स्वास्थ्य संबंधी जानकारी के साथ ही उचित परामर्श दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें : कोरोना के बाद अब मंकीपॉक्स ने बढ़ाई चिंता, ऑस्ट्रेलिया-फ्रांस में पहला मामला दर्ज, पेरू में जारी अलर्ट