भारत का सबसे बड़ा बैंकिंग फ्रॉड, DHFL ब्रदर्स ने बैंकों को लगाया 34 हज़ार करोड़ का चूना!

0
17

India’s Biggest Banking Fraud: देश के बैंकों को हज़ारों करोड़ का चूना लगाने वाले DHFL ब्रदर्स ने भारत का सबसे बड़ा बैंकिंग फ्रॉड किया है. यह अमाउंट इतना बड़ा है कि किंगफ़िशर के मालिक विजय माल्या और नीरव मोदी जैसे घोटालेबाज़ शर्मा जाएं। CBI ने आरोप लगाया है कि DHFL ने यूनियन बैंक की अगुवाई वाले 17 बैंकों के कंसोरिम या ग्रुप को 34,615 करोड़ रुपए का चूना लगाया है. 

CBI ने देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले की जाँच के लिए DHFL ब्रदर्स के मुंबई में स्थित 12 ठिकानों में छापेमारी की है. जांच एजेंसी ने DHFL के कपिल  वधावन और कम्पनी के CMD धीरज वधावन सहित डायरेक्टर और 6 अन्य लोगों पर मामला दर्ज किया है 

DHFL UBI घोटाले का पूरा मामला

Full case of DHFL UBI scam: यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया ने फरवरी 2022 में CBI से अपने साथ फ्रॉड होने की शिकायत लिखवाई थी, जिसके बाद अब CBI DHFL के बैंकिंग फ्रॉड की जांच कर रही है. CBI ने दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉरपोरेशन लिमिटेड के कपिल वधावन, धीरज वधावन, सुधाकर शेली, अमेरीलिस रियल्टर्स, स्काईलार्क बिल्डकॉन प्राइवेट लिमिटेड, दर्शन डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, एसओबी कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड, टाउनशिप डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, शिशिर रियल्टी प्राइवेट लिमिटेड, आदि के खिलाफ कथित तौर पर यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम को धोखा देने के मामले में FIR की है. सितंबर 2021 में पिरामल कैपिटल हाउसिंग फाइनेंस ने नकद और ऋण सौदे में 34,250 करोड़ रुपये में डीएचएफएल का अधिग्रहण पूरा किया था।

DHFL ने यूनियन बैंक को कितने का चूना लगाया 

यूनियन बैंक का कहना है कि DHFL भाइयों ने मिलकर यूनियन बैंक और इसकी अगुवाई वाले बैंकों के ग्रुप को 34,615 करोड़ का चूना लगाया है।  अगर UBI का आरोप सच साबित होता है तो यह भारत का अबतक का सबसे बड़ा बैंकिंग घोटाला साबित होगा। इससे पहले पिछले साल ही CBI ने ABG Shipyard पर 22,824 करोड़ का घोटाला उगाजर किया था. वहीं नीरव मोदी और मेहुल चौकसी से PNB को 13 हज़ार करोड़, बायोटेक के संदसेरा ने 16 हज़ार करोड़ और विजय माल्या पर 9 हज़ार करोड़ का बैंकिंग फ्रॉड करने के मामले सामने आए हैं. DHFL ने इस हिसाब से सबसे बड़ा बैंकिंग घोटाला किया है।  

पहले से जेल में हैं घोटालेबाज DHFL ब्रदर्स 

CBI का कहना है कि UBI को 34 हज़ार करोड़ की चपत बैठने वाले वधावन ब्रदर्स पहले से ही जेल में कैद हैं. कपिल वधावन और धीरज वधावन को यस बैंक के साथ फ्रॉड करने पर ED ने अरेस्ट किया था. दोनों भाई मुंबई के Taloja जेल में बंद हैं.