बिहार: मुजफ्फर नगर में रहने वाला यह 13 साल का लड़का 56 डिजिटल प्लेटफॉर्म का मालिक है

0
27

Bihar: ऋतिक रोशन की फिल्म सुपर 30 का एक डायलॉग है ‘प्रतिभा की कमी नहीं है, साधन नहीं है’ बिहार राज्य का ऐसा ही हाल है जहां टेलेंट की कोई कमी नहीं है, कमी है तो सिर्फ साधन की. राज्य के मुजफ्फर नगर में रहने वाले इस 13 साल के बच्चे को ही देख लीजिये। जिस उम्र में बच्चे छुआ-छूअल खेलते हैं वहीं सूर्यांश कुमार ने 56 डिजिटल प्लेटफॉर्म खड़े कर दिए हैं. 

13 साल के सूर्यांश कुमार (Suryansh Kumar) मुजफ्फर नगर के कटरा प्रखंड के अम्मा गांव के रहने वाले हैं. अभी सूर्यांश 10th में पहंच गए हैं. उन्होंने अपना पहला डिजिटल प्लेटफॉर्म क्लास 9th में बनाकर लॉन्च कर दिया था. 

ऑनलइन शॉपिंग करते हुए आईडिया आया 

सूर्यांश के दिन ऑनलाइन शॉपिंग कर रहे थे,  तभी उनके दिमाग में आईडिया आया ‘क्यों न ऐसा डिजिटल प्लेटफार्म बनाए जहां किसी भी सामान की डिलवेरी 30 मिनट के अंदर हो जाए’ घर वालों ने भी सूर्यांश के आईडिया पर उन्हें मोटिवेट किया। सूर्यांश का ShadiKijiye.com खूब इस्तेमाल होता है वहीं उनका Mantra Fry जो एक क्रिप्टो करेंसी से जुड़ा प्लेटफॉर्म है वो भी लॉन्च होने वाला है 

इन प्लेटफार्म से कितना पैसा कमाते हैं 

सूर्यांश ने इस तरह के 56 डिजिटल प्लेटफॉर्म बनाए हैं लेकिन उनकी आमदनी नहीं होती। लेकिन अपनी साइट्स को मॉनिटाइज करने के लिए सूर्यांश दिन में 18 घंटे काम करते हैं. वो पढ़ाई भी करते हैं लेकिन स्कूल नहीं जाते। 

सूर्यांश के माता-पिता एनजीओ चलाते हैं. उनके पिता का एनजीओ UN  से जुड़ा हुआ है. उनके पिता संतोष कुमार और मां अर्चना का कहना है कि खेलने के उम्र में उनका बच्चा डिजिटल प्लेटफॉर्म चला रहा है जो दूसरे लोगों के लिए भी इंस्पायरिंग है. सूर्यांश बताते हैं कि उन्हें उनके काम में पूरे परिवार का पूरा सहयोग मिलता है. सूर्यांश ने द स्मैश गाये नामक एक किताब भी लिखी है और अब वह फाइनेंस से जुडी किताब भी लिख रहे हैं.

सूर्यांश के डिजिटल प्लेटफार्म 

सूर्यांश के डिजिटल प्लेटफॉर्म्स में मंत्राफाई, जैस बिजनेस, जीप्सी कैब्स, जैसिफाई, जैस हेल्थ, जैस जोल्लिज, मंत्रा-कॉइन, जैस ब्रांड्स, जैस टेक, जैस स्नेप, चुलबुली आदि जैसे डिजिटल प्लेटफॉर्म्स  हैं. सभी डिजिटल प्लेटफॉर्म्स सूर्यांश कॉन्टेक प्राइवेट लिमिटेड के तहत संचालित होते हैं.