बांदा सांसद के बेटे पर ढाबा कर्मचारियों को बंदूक से पीटने का..

0
19

Advertisement

चित्रकूट, अमृत विचार। बांदा चित्रकूट सांसद आरके सिंह पटेल के बेटे सुनील पटेल पटेल पर गंभीर आरोप लगा है। यहां के मानिकपुर क्षेत्र में स्थित पंचवटी ढाबा के संचालक ने सुनील पटेल पर कर्मचारियों के साथ मारपीट व तोड़फोड़ का आरोप लगाया है।

Advertisement

ढाबा संचालक ने कहा की देर रात 12 बजे के बाद सांसद पुत्र अपने कई साथियों के साथ उसके यहां पहुंचे। उन्होंने खाना देने को कहा ,इतनी रात में भोजन न उपलब्ध होने पर जब संचालक ने मना किया तो सांसद पुत्र और उनके साथियों ने बंदूक की बट व लात घूंसों से कर्मचारियों को पीटा व कुर्सी मेज आदि सामान तोड़ दिया। इस घटना पर पुलिस ने अभी मामला दर्ज नहीं किया है। वहीँ दूसरी तरफ सांसद पुत्र ने अपने ऊपर लगे आरोप को गलत बताया है।

Advertisement

पंचवटी ढाबे के मालिक सुदीप कुमार ने जो तहरीर थाने में दी है उसके मुताबिक शुक्रवार की रात में ढाबा बंद करवा कर वो चले गए थे। ढाबे पर कर्मचारी मोना पांडेय, दुर्गा प्रसाद कोल व शिशुपाल ढाबे के अंदर सो रहे थे। देर रात करीब तकरीबन साढ़े 12 बजे सांसद आरके सिंह पटेल के पुत्र सुनील पटेल अपने साथी अभिलाष सिंह, दो गनर व एक प्राइवेट गनर व दो अन्य व्यक्ति से साथ आए और ढाबा खोलने व खाना खिलाने के लिए कहा। कर्मचारियों के मना करने पर आग बबूला हो गए और गुस्से में गाली गलौज किया।

संचालक के अनुसार सांसद पुत्र और उनके साथियों ने तीनों कर्मचारियों की बंदूक की बट व लात घूंसों से जमकर पिटाई की। ढाबे की कुर्सी व अन्य सामान को तोड़ फोड़ डाला। कर्मचारियों ने फोन करके उन्हें बुलाया। रात में ही डायल 112 को सूचना दी गई। प्रभारी निरीक्षक गिरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि ढाबा संचालक ने तहरीर दी है। वहीं एसपी अतुल शर्मा ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। यदि घटना सत्य पाई जाती है तो तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

जबकि सांसद पुत्र सुनील पटेल का कहना है कि घटना में वह नहीं थे। दूसरे लोग गए थे। वैसे खाना को लेकर पहले मालिक से फोन पर बात हो गई थी। फिर भी कर्मचारियों ने शराब के नशे में अभद्रता की। जिस पर मारपीट कुछ लोगों से हुई है। उनका नाम गलत जोड़ा जा रहा है।

वहीं दूसरी तरफ मुकदमा दर्ज न होने से ढाबा संचालक नाराज है और समर्थकों के साथ थाना के पास धरना पर बैठ गए हैं। उनकी मांग है कि मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाए।

यह भी पढ़ें –लखीमपुर-खीरी: खून पसीने से बनाया था घरौंदा अब उन्हीं हाथो से तोड़ रहे कटान पीड़ित

Advertisement