फोन पर तेज आवाज में बात करने पर हुई थी सालिम की हत्या

0
23

Advertisement

मुरादाबाद, अमृत विचार। बातचीत का सलीका व गफलत का जिंदगी पर गहरा असर होता है। सालिम हत्याकांड का पुलिसिया पर्दाफाश भी यही बयां करता है। ऊंची आवाज में मोबाइल फोन पर बात व एक नशेड़ी युवक के गफलत का शिकार होने की घटना सालिम के मौत का सबब बन गई। गुरुवार को हत्याकांड का राजफाश करते कटघर पुलिस ने दावा किया कि असली कातिल आला कत्ल समेत कानून की गिरफ्त में है। कातिल की गिरफ्तारी से आरोपी बनाए गए मछली कारोबारी को काफी राहत मिल गई है, जो बीते 19 दिनों तक कत्ल के आरोपों से घिरा हुआ था।

Advertisement

  • सालिम हत्याकांड का कटघर पुलिस ने किया राजफाश
  • गाली सुनकर गफलत में भड़के नशेड़ी युवक ने ली थी टेलर की जान

एसपी सिटी अखिलेश भदौरिया ने बताया कि 17 जुलाई को देर शाम कटघर पुलिस को खबर मिली कि काशीपुर तिराहा स्थित प्रेमवण्डर लैण्ड पुल के नीचे सालिम पुत्र इन्तेजार उर्फ भूरा निवासी बरवारा मजरा के सीने में नुकीला औजार घोंप कर उसे मौत के घाट उतारा गया है। मृतक के पिता भूरा ने तहरीर देकर बताया कि मछली बेचने का कारोबार करने वाला शकील उसके पुत्र की जान के पीछे पड़ा था। पत्नी से अवैध संबंध के संदेह में शकील ने पूर्व में सालिम को जान से मारने की धमकी दी थी। भूरा ने प्रेम प्रसंग में पुत्र की हत्या होने की आशंका जताई। तहरीर के आधार पर पुलिस ने शकील के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली थी। कटघर सीओ अनूप कुमार, थाना प्रभारी आरपी शर्मा के अलावा काशीपुर दोराहा चौकी इंचार्ज पंकज कुमार को खुलासे की जिम्मेदारी दी गई थी।

Advertisement

काल रिकार्ड व मोबाइल फोन के लोकेशन ने खड़ा किया संदेह
घटना स्थल के निरीक्षण में पुलिस को पता चला कि सालिम बीते कुछ माह से प्रेम वंडर लैंड के समीप एक कपड़े के शोरूम पर सिलाई का काम सीख रहा था। सालिम के पास उसका व्यक्तिगत मोबाइल फोन था। जबकि घटना स्थल पर कोई मोबाइल फोन पुलिस को मिला ही नहीं। ऐसे में पुलिस को सालिम का मोबाइल फोन लूटे जाने का संदेह हुआ। काल डिटेल खंगालने पर पता चला कि जिस वक्त सालिम की हत्या हुई, तब वह मोबाइल फोन पर वह अपनी कथित प्रेमिका व शकील की बीवी तसलीमा से बात कर रहा था। पुलिस के अनुसार प्रेमी युगल प्रति दिन पांच से छह घंटे आपस में बातचीत करते थे। वहीं जांच में पता चला कि आरोपी मछली कारोबारी शकील वारदात के बाद भी काशीपुर दोराहा व उसके आसपास मौजूद रहा। जबकि सालिम के मोबाइल की लोकेशन लगातार बदल रही थी।

शकील से पूछताछ में नहीं मिला कत्ल का सुराग
सालिम के परिजनों के संदेह के आधार पर पुलिस ने मछली कारोबारी शकील से पूछताछ शुरू की। शकील ने कत्ल को अंजाम देने के आरोपों से दो टूक इन्कार कर दिया। हालांकि शकील ने माना कि उसकी पत्नी व सालिम के बीच अर्से से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों एक दूसरे के संपर्क में थे। लेकिन सालिम का कत्ल करने का आरोप स्वीकारने से शकील ने इन्कार कर दिया। बाद में पता चला कि बरवारा मजरा के ही रहने वाला नसीम उर्फ लल्ला पुत्र बदलू हाजी वारदात प्रकाश में आने के बाद से ही घर से लापता है। नसीम के बावत पूछताछ के बाद उसकी मां भी घर छोड़ फरार हो गई। नसीम की तलाश में पुलिस ने दिल्ली के जेजे कालोनी में डेरा डाल दिया। वहां छानबीन में पता चला कि नसीम के पिता व भाई जेजे कालोनी में रहकर ही जीविकोपार्जन करते हैं। दिल्ली के जेजे कालोनी में ही सालिम के मोबाइल फोन का अंतिम लोकेशन मिला था।

गफलत में ले ली जान
मुखबिर की सूचना पर गुरुवार को काशीपुर दोराहे के समीप पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में नसीम ने सालिम की हत्या करने की बात कबूल की। बताया कि वह ड्रग्स व नशीले इंजेक्शन का सेवन करता है। वारदात के वक्त सालिम कपड़े के शोरूम से वापस घर लौट रहा था। जिस वक्त सालिम प्रेम वंडर लैंड ब्रिज के नीचे पहुंचा, तब वहां नशे में धुत नसीम भी मौजूद था। मोबाइल फोन पर बातचीत करते आगे बढ़ रहा सालिम गाली गलौज करते हुए ऊँची आवाज में बात कर रहा था। तेज आवाज सुनकर नसीम को लगा कि सालिम उसे गाली दे रहा है। गाली देने का विरोध करते हुए वह सालिम से उलझ गया। वाद विवाद के दौरान नसीम ने आपा खो दिया। लोहे के जिस नुकीले औजार का इस्तेमाल वह नशे की फूंक तैयार करने में करता था, उसी से सालिम के सीने पर ताबड़तोड़ दो वार कर दिया। सालिम के जमीन पर गिरने के बाद नसीम ने उसका मोबाइल फोन ले लिया। इसके बाद नसीम वापस घर लौटा। डेढ़ घंटे बाद उसे पता चला कि सालिम की मौत हो चुकी है। तब मां से साढ़े चार सौ रुपये लेकर वह दिल्ली भाग निकला।

प्रेमिका को दूसरे दिन लगा प्रेमी की हत्या होने का पता
कातिल तक पहुंचने की कोशिश में जुटी कटघर पुलिस ने मछली कारोबारी शकील की पत्नी तसलीमा से भी पूछताछ की। तसलीमा ने बताया कि वारदात के वक्त वह हरियाणा में अपने मायके में थी। महिला ने माना कि जिस वक्त सालिम की हत्या हुई, तब दोनों मोबाइल फोन पर बातचीत कर रहे थे। सालिम व नसीम के बीच जिस वक्त विवाद व झगड़ा हुआ, तब तसलीमा को अनहोनी की आशंका हो गई थी। अचानक फोन कटने से परेशान तसलीमा ने घटना की तह तक जाने के लिए देर रात तक काशीपुर दोराहा स्थित अपने संपर्क स्रोतों से संपर्क साधने की कोशिश की।

ये भी पढ़ें:- मुरादाबाद : छात्रों ने की अवकाश घोषित कर परीक्षा तिथि आगे बढ़ाने की मांग, कुलपति को भेजा ज्ञापन

Advertisement