निगम मुख्यालय का भाजपा पार्षदों ने किया घेराव

रायपुर
नगर निगम के मुख्यालय व्हाइट हाउस का शुक्रवार को भाजपा पार्षदों ने घेराव किया। भाजपा के अलग-अलग वार्ड के पार्षद अपने समर्थकों के साथ नगर निगम मुख्यालय पहुंचे और यहां नारेबाजी करने लगे। इस विरोध प्रदर्शन में भाजपा के जिला स्तर के नेता भी शामिल हुए। भाजपा पार्षदों ने नल कनेक्शन में घटिया काम होने और स्मार्ट सिटी योजना में घोटाले का आरोप लगाकर जमकर नारेबाजी की।  

रायपुर नगर निगम की नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे ने बताया कि नगर निगम प्रशासन जनता को सुविधा देने के मामले में कोई काम नहीं कर रहा। उन्होंने आरोप लगाया कि अमृत मिशन योजना के तहत बेहद स्तरहीन कार्य चल रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना और स्मार्ट सिटी योजना में घोटाले हो रहे हैं, शहर में जल संकट है कई इलाकों में जलभराव हो रहा है। मगर निगम प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा।

नेता प्रतिपक्ष ने इसके साथ सवाल उठाते हुए कहा कि मानसून दस्तक दे दी है, लेकिन नाला-नालियों की सफाई नहीं हुई है। इससे शहर की जनता परेशान होगी, जल घेराव का सामना करना पड़ेगा। वहीं अमृत मिशन योजना के क्रियान्वयन पर सवाल उठाते हुए कहा कि स्तरहीन कार्य किया जा रहा है। ठेकेदारों की मनमानी जारी है, लेकिन अधिकारी आंख मूंद कर बैठे हैं। इसी के विरोध में निगम कार्यालय का घेराव किया गया है। हमारी मांग नहीं मानी जाती है तो आगे उग्र आंदोलन करेंगे।  इन्हीं मुद्दों को लेकर शुक्रवार की दोपहर नगर निगम मुख्यालय पहुंचे पार्षदों ने नगर निगम के गेट के बाहर बैठ कर नारेबाजी शुरू कर दी। सब ने हाथ में अलग-अलग नारे लिखी तख्तियां ले रखी थी। सभी ने महापौर एजाज ढेबर पर लोगों के हितों के लिए काम न करने के आरोप लगाए।

जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने निगम की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इस स्मार्ट सिटी बनाने के लिए करोड़ों रुपए दे रही है, लेकिन स्मार्ट सिटी के कार्यों के नाम पर सिर्फ़ घोटाला और भ्रष्टाचार किया जा रहा है। इसकी जाँच कर जिम्मेदारों पर कार्रवाई की जानी चाहिए। भ्रष्टाचार के आरोपियों और जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं होती है तो आगे सड़क से सदन तक की लड़ाई लड़ेंगे।