‘नए कोष को मंजूरी नहीं मिली तो ठंड में बढ़ सकते हैं कोविड-19 के मामले’

0
61

वाशिंगटन। व्हाइट हाउस के कोविड-19 समन्वयक डॉ. आशीष झा ने गुरुवार को आगाह किया कि अगर अमेरिकी संसद ने अधिक टीकों और उपचार सुविधाओं के लिए नए कोष को जल्द मंजूरी नहीं दी तो देश में पतझड़ और ठंड के मौसम में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ सकते हैं।

Advertisement

झा ने ‘द एसोसिएटेड प्रेस’ को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि कोविड-19 के खिलाफ अमेरिकियों की प्रतिरोधक क्षमता कम हो रही है, जबकि वायरस अधिक संक्रामक रूप अख्तियार कर रहा है, इसलिए संक्रमण से बचाव के लिए ज्यादातर लोगों को ‘बूस्टर’ खुराक लगवाने की जरूरत है। उनका यह बयान ऐसे समय में आया है, जब व्हाइट हाउस ने हाल ही में कहा था कि अमेरिका में इस साल के अंत तक कोरोना वायरस संक्रमण के 10 करोड़ मामले आ सकते हैं। झा ने कहा कि पतझड़ शुरू होते ही वायरस को लेकर स्थिति बेहद संवेदनशील होने वाली है…क्योंकि तब तक लोगों की प्रतिरोधक क्षमता काफी कम हो जाएगी।

टीकाकरण को लेकर दूसरे देशों की मदद की आवश्यकता पर झा ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस के सभी स्वरूप पहले अमेरिका के बाहर ही सामने आए। ऐसे में अगर अमेरिकी अवाम को सुरक्षित करना है तो हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि दुनिया में सभी का टीकाकरण हो। मेरा मतलब है कि यहां केवल देश को प्राथमिकता देने का दृष्टिकोण नहीं अपनाया जा रहा।’’ झा के मुताबिक, वह सांसादों से अतिरिक्त कोष की मांग कर रहे हैं, जिसकी जरूरत देश को पतझड़ और सर्दी के मौसम में संक्रमण से निपटने के लिए पड़ेगी। उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिकी सरकार को अब भी सक्रिय भूमिका निभाने की जरूरत है। यह भूमिका वक्त के साथ बदल जाती है, लेकिन अभी यह बेहद गंभीर है।’’ झा ने कहा, ‘‘संसद की मदद के बिना अमेरिकी अवाम की रक्षा करना बेहद मुश्किल होगा।’’

ये भी पढ़ें : Sri Lanka Crisis : पीएम बनने के बाद विक्रमसिंघे बोले- राष्ट्रपति के खिलाफ आंदोलन जारी रहना चाहिए, मैं इसे नहीं रोकूंगा