धन के लालच में मासूम की चढ़ाई थी बलि, कोर्ट ने दोषी को सुनाई आजीवन…

0
85

रायबरेली। रामलीला देखने गए मासूम को पकड़कर धन की लालच में उसकी बलि देने के मामले में दस साल बाद इंसाफ मिल गया है। घटना में आरोपित महिला समेत तीन लोगों को न्यायालय ने दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

Advertisement

मामला ऊंचाहार के जमुनापुर चौराहा का है। घटना 6 अक्टूबर 2012 की है। चौराहा के रहने वाले धर्मेंद्र कौशल का दस साल बेटा अमन चौराहा के पास स्थित कुटी पर रामलीला देखने गया था। जहां से वह गायब हो गया था। इसके बाद दस अक्टूबर को उसका शव रामलीला स्थल से थोड़ी दूरी पर झाड़ियों में क्षत विक्षत अवस्था में बरामद हुआ था।

इस मामले में पुलिस ने जमुनापुर चौराहा की आशा बानो पत्नी मो शरीफ, उसके सहयोगी अजय सिंह उर्फ कल्लू बेटा राम बहादुर और सिकंदर बेटा अब्दुल हबीब को गिरफ्तार करके जेल भेजा था। दस साल तक चले ट्रायल में न्यायालय ने पुलिस के साक्ष्यों, गवाहों के आधार पर तीनों आरोपितों को दोषी पाया है, और गुरुवार को तीनो को इस मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है।

घर में गड़े धन की लालच में अमन की दी थी बलि

पुलिस ने इस मामले में आशा बानो के घर से झाड़ फूंक करने का सामान बरामद किया था। घटना में पुलिस का कहना था कि आशा के घर के एक कमरे में धन गड़ा होने की संभावना आरोपियों को थी। इस कमरे में अक्सर सांप भी दिखाई देता था।

इसी धन की लालच ने तीनो ने मिलकर अमन को रामलीला से बुला लिया और उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद उसका दाहिना हाथ और बाल घर में रखा। उसके बाद शव को झाड़ियों में फेंक दिया था। जहां से पुलिस ने शव को बरामद किया था। इस नृशंस हत्याकांड में अब पीड़ित परिवार को न्याय मिला है।

पढ़ें-बलिया: अब नहीं चल सकेंगी अवैध सवारी गाड़ियां, कागजातों की होगी जांच