दो बेटों के संग मां ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान…जानें क्या थी वजह

Advertisement

लखनऊ । महानगर थानाक्षेत्र में उस वक्त दहशत के साथ अफरा-तफरी का माहौल बन गया। जब एक महिला ने अपने दो बेटों के संग ट्रेन आगे कूद कर जान दे दी। बता दें कि महिला अपने बड़े बेटो को स्कूल छोड़ने के बहाने घर में ताला लगाकर निकली थी। जब यह सूचना स्थानीय लोगों तक पहुंची तो यह पूरी खबर पुलिस पुलिस महकमें में आग की तरफ फैल गई। आनन-फानन घटनास्थल स्थल पर पहुंची पुलिस ने महिला व उसके बेटे के शव को पोस्टमार्टम हाउस भेजवाया। जबकि दूसरे बेटे की ट्रामा सेंटर में मौत हो गई। फिलहाल पुलिस मामले की तफ्तीश में जुट चुकी है।

Advertisement

सीएमएस में पढ़ता था बड़ा बेटा

Advertisement

आपको बता दें कि महानगर थानाक्षेत्र के मालदा कॉलोनी निवासी शशि भूषण एकता आपर्टमेंट में रहते हैं। वैश्विक महामारी के बाद से शशि भूषण की नौकरी छूट गई थी। जिस वजह उनके परिवार को तमाम मुश्किलों को सामना करना पड़ रहा था। शशि भूषण के पिता सूचना विभाग में कार्यरत थे और उनकी पेंशन मां को मिलती थी। उसी पेंशन से शशि भूषण और उनके परिवार के खर्च बदस्तूर जारी थे। बता दें कि उनका बेटा अनय भूषण (8) सीएमएम की निशातगंज ब्रांच मे पढ़ता था।

शुक्रवार की सुबह शशि भूषण की पत्नी मधु भूषण (36) छोटे बेटे अमिश भूषण को गोद में लेकर बड़े बेटे को स्कूल छोड़ने के बहाने घर में ताला लगाकर निकल गई थी और महानगर रेलवे क्रॉसिंग पहुंचे पर मधु ने दोनों बेटों के संग ट्रेन के आगे कूद कर जान दे दी। बता दें कि घटनास्थल पर ही मधु व उसके छोटे बेटे अमिश भूषण की मौत हो गई। जबकि बड़ा बेटा अनय भूषण गंभीर रुप से घायल हो गया। तत्काल उसे ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

आपको बता दें कि पड़ोसियों ने शशिभूषण को इस बारे में जानकारी दी। इसके बाद वह ट्रामा सेंटर पहुंचे। जहां उन्हें पत्नी और बेटे की मौत की सूचना मिली। शुरूआती दौर में सामने आया कि दंपती के बीच करीब दो महीने से अनबन चल रही थी और उनकी बोलचाल बंद थी। जब पुलिस ने शशिभूषण से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि शुक्रवार की सुबह लगभग छह बजे वह अपने रिश्तेदार को लेकर पीजीआई अस्पताल गया था।

घर पर उनकी मां शकुंतला पत्नी और बेटे मौजूद थे। बताया कि सुबह सात बजे उनकी मां ने कॉल सूचना दी कि मधु उन्हें कमरे में बंद कर बड़े बेटे को स्कूल छोड़ने की बात कहकर निकली है और अमिश को भी मधु अपने साथ ले गई है। बता दें कि जेहन में अनहोनी की आंशका पर शशिभूषण अस्पताल से फौरन घर की तरफ निकला लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। इसी बीच पड़ोसियों ने कॉल कर शशि भूषण को जानकारी दी कि मधु और बच्चे किसी एक्सप्रेस ट्रेन की चपेट में आ गए हैं।

इस सम्बन्ध में महानगर कोतवाली प्रभारी केशव तिवारी के मुताबिक, बच्चे की स्कूल ड्रेस को देखकर सीएमएस के मैनजमेंट से संपर्क किया। इसके बाद बच्चे की फोटो देखकर शिनाख्त कराई गई। उन्होंने बताया कि दंपती के बीच पिछले दो महीने से परिवारिक विवाद चल रहा था। जिस वजह से उनके बीच बातचीत बंद थी।

यह भी पढ़ें:- कानपुर: बचाव के लिए लोग चिल्लाते रहे, छात्र ने ट्रेन के आगे आकर दी जान

 

Advertisement