थाइलैंड ओपन के सेमीफाइनल में हारीं पीवी सिंधु, ओलंपिक चैपिंयन चेन यूफेई ने तोड़ा दिल

0
48


बैंकाक। भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु शनिवार को यहां सेमीफाइनल में ओलंपिक चैम्पियन और दुनिया की चौथे नंबर की खिलाड़ी चेन यु फेई से सीधे गेम में पराजित होकर थाईलैंड ओपन से बाहर हो गयीं। दो बार की ओलंपिक पदक विजेता सिंधू तीसरी वरीयता प्राप्त चेन से 43 मिनट में 17-21 16-21 से हार गयी जिससे उनका सुपर 500 टूर्नामेंट में शानदार सफर खत्म हो गया।

Advertisement

छठी वरीय सिंधू का इस मैच से पहले चेन के खिलाफ जीत का रिकॉर्ड 6-4 था लेकिन वह चीन की इस खिलाड़ी के खिलाफ वैसा दमदार प्रदर्शन नहीं कर सकीं और कई ‘अनफोर्स्ड’ (सहज) गलतियां कर बैठीं। वहीं चेन ने आक्रामक बैडमिंटन खेलकर भारतीय खिलाड़ी पर जीत हासिल की। हैदराबाद की 26 वर्षीय खिलाड़ी को पिछली बार चेन से 2019 बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर फाइनल्स में हार मिली थी। सिंधु पहले गेम में 3-3 की बराबरी के बाद ब्रेक तक 7-11 से पिछड़ रही थीं। चेन ने रैलियों से दबदबा बनाना जारी रखा और सिंधु के नेट पर और दूर लगे शॉट का फायदा उठाते हुए 17-12 की बढ़त बना ली।

पीवी सिंधु ने क्रास कोर्ट रिटर्न से कुछ अंक जुटाये और स्कोर 15-17 कर दिया लेकिन चीन की खिलाड़ी ने पीवी सिंधु के शॉट का फायदा उठाकर अंक जुटाया। भारतीय खिलाड़ी फिर लंबा शॉट लगाने के बाद अगले को नेट में लगा बैठीं जिससे चेन को पांच गेम प्वाइंट मिले। पहला गेम जीतने से पहले चीनी प्रतिद्वंद्वी दो अंक गंवा बैठी थीं लेकिन पीवी सिंधु के फिर नेट पर शॉट लगाने से इसे अपने नाम करने में सफल रहीं। दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी पीवी सिंधु ने दूसरे गेम में बेहतर खेल दिखाते हुए 6-3 की बढ़त बनाकर इसे 10-5 कर दिया था।

लेकिन चेन ने लगातार तीन अंक जुटा लिये। पर पीवी सिंधु 25 शॉट की रैली जीतने के बाद ब्रेक तक दो अंक की बढ़त बनाये रहीं। दुनिया की चौथे नंबर की चीन की खिलाड़ी ने जल्द ही गेम पर कब्जा करना शुरू किया और 15-12 से आगे हो लीं। इसके बाद सिंधू इसे 15-17 तक करीब करने में सफल रहीं लेकिन फिर क्रास कोर्ट रिटर्न में वाइड चली गयीं। चेन ने सिंधु के फारहैंड पर विनर जमाया और पांच मैच प्वाइंट हासिल किये। फिर चेन ने ‘बॉडी स्मैश’ से मुकाबला जीत लिया। इस सत्र में सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय और स्विस ओपन में दो सुपर 300 खिताब जीतने वाली सिंधु अब सात से 12 जून तक जकार्ता में होने वाले इंडोनेशिया मास्टर्स सुपर 500 टूर्नामेंट में शिरकत करेंगी।

ये भी पढ़ें : Wimbledon 2022 : रूस पर प्रतिबंध के कारण विम्बलडन से खिलाड़ियों को नहीं मिलेंगे रैंकिंग अंक





Source link