HomeSportsतेज खेलने के फेर में गलत शॉट पर पंत आउट

तेज खेलने के फेर में गलत शॉट पर पंत आउट


कहते हैं कि अगर रास्ता खाली हो तो गाड़ी चौथे गीयर पर चलाने का मजा ही अलग है। हालांकि, अगर स्पीडब्रेकर्स दिख जाएं तो गाड़ी धीमी करने में ही भलाई मानी जाती है। भारत के स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत ऐसा करने में चूक गए। परिणाम ये हुआ कि पंत के 200 के स्ट्राइक रेट से बैटिंग के बावजूद भारत दूसरा टी-20 गंवा बैठा।

थोड़ी सी जिम्मेदारी उठा लेते पंत तो हालात दूसरे होते
पंत वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टी-20 में भारत के लिए चौथे नंबर पर खेलने आए थे। कप्तान रोहित शर्मा ओपनिंग करने आए और पहली ही गेंद पर गोल्डन डक बनाकर चलते बने। उनके सलामी जोड़ीदार सूर्यकुमार यादव भी 183 की स्ट्राइक से 6 गेंद पर 11 रन बनाकर पवेलियन का रास्ता नाप चुके थे।

दिल्ली कैपिटल्स में पंत के जोड़ीदार रहे श्रेयस अय्यर भी 10 रन बनाकर लौट गए। हालांकि, इस सबके बावजूद पावर प्ले के दौरान पंत ने खूब धूम-धड़ाका मचाया। 200 की स्ट्राइक रेट से खेलते हुए उन्होंने 2 गगनचुंबी छक्के उड़ाए। भारतीय टीम के फैंस भी ये सोचकर बैठ सीट बेल्ट की पेटी बांधकर बैठ गए कि आज ‘द ऋषभ पंत शो’ देखने को मिलेगा।

किस्सा भारतीय पारी के 7वें ओवर का है। अकीला हुसैन की दूसरी गेंद पर पंत ने खूबसूरत चौका जड़ा। पावरप्ले खत्म हो चुका था तो स्वाभाविक तौर पर फील्ड भी खुल गई थी। फैंस को लगा कि अब शायद पंत थोड़ा संयम बरतेंगे लेकिन जो थम जाए, वो पंत कैसा।

पंत ने तीसरी गेंद को छक्के के लिए सीमा रेखा के बाहर भेजना चाहा लेकिन ओडियन स्मिथ से पार नहीं पा सके। इधर पंत लपके गए और उधर इंडियन क्रिकेट फैंस की उम्मीदें धाराशाई हो गईं। पंत की तारीफ में वाह से शुरु हुआ सफर आह पर आकर खत्म हो गया।

पारी तूफानी, फटाफट खत्म कहानी
बेशक ऋषभ एक ताबड़तोड़ बलेलेबाज हैं और आने वाले वक्त में उनको भारतीय टीम के कप्तान के तौर पर भी देखा जा रहा है। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट शतक जड़कर पंत ने अपनी उपयोगिता साबित भी की है। इस सबके बावजूद टी-20 में गलत समय पर पंत का विकेट गंवाना भारत को अक्सर भारी पड़ता रहा है। भारतीय टीम उम्मीद कर रही है कि टी-20 वर्ल्ड कप में पंत टॉप ऑर्डर की जिम्मेदारी उठाएंगे, लेकिन अगर हालात ऐसे ही रहे तो बहुत कठिन है डगर पनघट की।

विंडीज ने बराबर की सीरीज
वेस्टइंडीज ने दूसरा टी-20 मुकाबला 5 विकेट से जीतकर 5 मैचों की सीरीज 1-1 से बराबर कर ली। टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज को 139 रन का टारगेट दिया था, जिसे उन्होंने 19.2 ओवर में 5 विकेट खोकर हासिल कर लिया। टीम के लिए सबसे ज्यादा 68 रन ब्रैंडन किंग ने बनाए। वहीं, डेवोन थॉमस ने आखिरी ओवरों में धमाकेदार बल्लेबाजी करते हुए सिर्फ 19 गेंद में 31 रन बनाकर अपनी टीम को जीत दिला दी।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments