डॉ. ओम प्रकाश मिश्रा को मिला अवंती बाई साहित्य सम्मान

Advertisement

हरदोई। उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान के वर्ष 2021 के सम्मान और पुरस्कारों की घोषणा मंगलवार को कर दी गई है। मूल रूप हरदोई के रहने वाले प्रसिद्ध साहित्यकार, पत्रकार, अर्थशास्त्री व शिक्षाविद् डॉ. ओम प्रकाश मिश्रा को अवंती बाई साहित्य सम्मान प्रदान किया गया है जिसकी सम्मान राशि पांच लाख रुपये है। संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. सदानंद प्रसाद गुप्त की अध्यक्षता में हुई बैठक में सर्वसम्मति से विद्वानों के नामों का चयन किया गया।

Advertisement

संस्थान का सर्वोच्च भारत भारती सम्मान दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग के भूतपूर्व प्रोफेसर डॉ. रमानाथ त्रिपाठी को दिया गया। भारत भारती सम्मान के तहत दी जाने वाली सम्मान राशि आठ लाख रुपये है। सम्मान सूची में लखनऊ से डॉ. ओम प्रकाश मिश्रा के अलावा हृदय नारायण दीक्षित समेत 18 साहित्यकारों के नाम शामिल है।

Advertisement

अवंती बाई साहित्य सम्मान से सम्मानित लखनऊ के डॉ. ओम प्रकाश मिश्र का जन्म हरदोई के बेहटा सधई गांव में 25 जुलाई 1939 को हुआ था। उनकी प्रथमिक शिक्षा गांव के स्कूल में ही हुई तथा हाई स्कूल एवं इंटर की शिक्षा उन्होंने हरदोई नगर में प्राप्त की। उन्होंने बीए एवं एमए कानपुर के बीएसएसडी कालेज से किया। बाद में उन्हें पीएचडी एवं डीलिट की उपाधि भी मिली। अर्थशास्त्र में उनके शोध को काफी ख्याति मिली।

डॉ. ओम प्रकाश मिश्रा ने प्राध्यापक एवं प्राचार्य के रूप में आजीवन कार्य किया और वर्ष 2000 में गोला गोकर्णनाथ के सीजीएन पीजी कालेज से प्राचार्य के पद से सेवानिवृत्त हुए। फिलहाल डॉ. ओम प्रकाश मिश्रा का निवास लखनऊ के केशव नगर में है। उच्च शिक्षा के क्षेत्र में परीक्षा प्रणाली में शुचिता कायम करने के लिए उन्हें विशेष रूप से जाना जाता है। उन्होंने अर्थशास्त्र सम्बंधी 6 तथा साहित्य, संस्कृति एवं धर्म सम्बंधी 16 पुस्तकों की रचना की है।

संस्थान की ओर से पांच लाख रुपये की राशि वाले सम्मान की श्रेणी में लोहिया साहित्य साहित्य सम्मान देहरादून उत्तराखंड के बुद्धिनाथ मिश्र को, हरियाणा गुरुग्राम से डॉ. गिरिराज शरण अग्रवाल को हिंदी गौरव सम्मान, महाराष्ट्र नंदुरबार के डॉ. विश्वास किसान पाटील को महात्मा गांधी साहित्य सम्मान, उत्तर प्रदेश गौतमबुद्ध नगर के डॉ. रामशरण गौड़ को पं. दीनदयाल उपाध्याय साहित्य सम्मान, लखनऊ के डॉ. ओम प्रकाश मिश्र को अवंती बाई साहित्य सम्मान, लखनऊ के हृदय नारायण दीक्षित को अटल बिहारी बाजपेयी सम्मान के लिए चुना गया है।

यह भी पढ़ें:-बरेली: दो साहित्यकारों को प्रतीक चिह्न देकर किया सम्मानित

Advertisement