डेक्लाथान संचालकों पर करोड़ो रुपये हड़पने का मुकदमा दर्ज

0
22

Advertisement

लखनऊ। राजधानी के विभूतिखंड कोतवाली में डेक्लाथान स्टोर संचालक और मैनेजर पर पांच करोड़ रुपये हड़पने की प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। बिल्डिंग मालिक का आरोप है कि स्टोर संचालक और मैनेजर ने साल 2018 से किराया नहीं दिया है। तहरीर के आधार पर पुलिस ने अमानत में खयानत का मुकदमा दर्ज कर तफ्तीश शुरू कर दी है।

Advertisement

बता दें कि, इन्दिरानगर के स्वपनिल अग्रवाल ने साल 2018 में रोहतास प्राइवेट लिमिटेड से अपार्टमेंट में जमीन खरीदी थी। उस वक्त एग्रीमेंट के समय रोहतास निदेशक पीयूष रस्तोगी ने बताया कि डेक्लाथान को 20 साल के लिए जमीन लीज पर दी गई है। इसका किराया रोहतास ग्रुप वसूल कर स्वप्नलि को सौंपता था। साल 2018 में राजधानी में रोहतास ग्रुप व उसके निदेशकों पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज होने लगा तो उनकी बहुत सी प्रापर्टी जब्त कर ली गई। ऐसे में रोहतास ग्रुप किराया दे पाने में असमर्थ हो गया। इस पर स्वप्निल ने स्टोर मैनेजर सिद्धार्थ अग्रवाल व स्टोर आपरेशन अमित से किराया देने के लिए कहा। आरोप है कि इस पर दोनों ने डेक्लाथान संचालक फ्रैंक मोरिस और जेरोम जीन से सम्पर्क करने के लिए कहा। बता दें कि पता मांगने पर भी जानकारी नहीं दी गई। पीड़ित ने बताया कि वी किराया वसूलने का भरसक प्रयास कर रहे थे। बावजूद इसके नाकामी हाथ लगी। पांच जुलाई 2022 को लखनऊ कमिश्नरेट पुलिस ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए रोहतास ग्रुप की एक अरब 16 करोड़ 23 लाख की सम्पत्ति जब्त कर ली। इसके बाद डेक्लाथान ने अपना स्टोर लुलु माल में शिफ्ट कर लिया। इस स्वपनिल ने बकाया पांच करोड़ रुपये देने के लिए कहा तो स्टोर संचालक और मैनेजर रुपये लौटाने से मुकर गए। जिसके बाद पीड़ित ने विभूतिखंड कोतवाली में तहरीर देते हुए मुकदमा दर्ज कराया है।

Advertisement

यह भी पढ़ें-: आईएएस बन कर करोड़ों की ठगी करने वाले ठग को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Advertisement