जानें क्यों मृत्यु के बाद शव को अकेला नहीं छोड़ते, गरुड़ पुराण में बताए गए हैं ये कारण

0
15

मृत्यु के बाद व्यक्ति के शव को अकेला नहीं छोड़ा जाता है। दरअसल इसका संबंध गरुड़ पुराण से है। बतादें कि हिंदू मान्यता के अनुसार हिंदू धर्म में सूर्यास्त के बाद शव का दाह संस्कार नहीं किया जाता। रात में यानी सूर्यास्त के बाद दाह संस्कार करने पर मान्यता है कि स्वर्ग के द्वार बंद हो जाते हैं और नर्क के द्वार खुल जाते हैं। ऐसे में जीव की आत्मा को नरक का कष्ट भोगना पड़ता है। मृत्यु के बाद व्यक्ति के शव को अकेला भी नहीं छोड़ा जाता है। दरअसल इसका संबंध गरुड़ पुराण से है। आइए समझते हैं इसके पीछे का कारण।

Advertisement

इसलिए शव को नहीं छोड़ते अकेला:

  1. गरुड़ पुराण के अनुसार रात में शव को अकेला छोड़ दिया जाए तो आसपास भटक रही बुरी शक्तियां उसमें प्रवेश कर सकती हैं। ऐसे में घर पर नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव पड़ सकता है। पूरे परिवार के लिए मुसीबत की वजह बन सकती हैं।
  2. कहा जाता है कि मृत्यु के बाद आत्मा घर में 13 दिन तक रहती है। ऐसे में जब तक दाह संस्कार न हो जाए शव को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए।
  3. गुरुड़ पुराण के अनुसार शव को अकेला छोड़ने पर लाल चींटियां या अन्य कीड़े उसके पास आने का डर बना रहता है। ऐसे में जरूरी है कि शव की रखवाली के लिए कोई पास हो।
  4. रात में तांत्रिक क्रियाओं का प्रभाव तेज हो जाता है। ऐसे में शव को अकेला छोड़ने से उसका इस्तेमाल तंत्र साधना के लिए किया जा सकता है। आत्मा को नुकसान पहुंच सकता है।
  5. अगर ज्यादा देर तक शव को घर में रखा जाए तो बैक्टीरिया फैलने के आसार बढ़ जाते हैं। शव के चारों ओर अगरबत्ती जलाने के लिए किसी का पास होना जरूरी है।