एक्सप्रेस वे का संगम लिखेगा इटावा में विकास की इबारत, तीन एक्सप्रेस वे के जुड़ाव का है यह प्रदेश का पहला जिला

Advertisement

इटावा। महाभारत कालीन सभ्यता से जुड़ा उत्तर प्रदेश का इटावा जिला एक्सप्रेस वे हब बनता नजर आने लगा है। आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे और बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के बाद अब चंबल एक्सप्रेस वे भी इटावा से निकलेगा। तीन एक्सप्रेस वे के जुड़ाव वाला यह प्रदेश का पहला जिला माना जा रहा है।

Advertisement

एक जमाने में कुख्यात दस्यु गिरोहों की शरणस्थली के तौर पर कुख्यात इटावा के लोगों को अब एक्सप्रेस वे के जरिये विकास और रोजगार के नये रास्ते खुलने की उम्मीद जगी है। लोगों को कहना है कि तीनों एक्सप्रेस वे के जरिए इटावा में विकास की नई राह तो शुरू होगी ही साथ ही रोजगार के नए नए रास्ते भी खुलेंगे।

Advertisement

पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री और स्थानीय भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद प्रो. रामशंकर कठेरिया ने कहा कि इटावा में भरथना के पास नगरिया सरावा गांव में बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे से चंबल एक्सप्रेस वे का जुड़ाव होगा। इसके निर्माण पर करीब 8800 करोड़ खर्च आने का अनुमान है। चंबल एक्सप्रेस वे के इस साल आखिरी में शुरू हो जाने की उम्मीद जताई जा रही है।

राजस्थान के कोटा से निकल कर यूपी के इटावा तक करीब 400 किलोमीटर दूरी तय करने वाला चंबल एक्सप्रेस वेफोरलेन का निर्मित होगा। इसी साल नवंबर माह से चंबल एक्सप्रेसवे का निर्माण शुरू हो जायेगा। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से कठेरिया ने इस एक्सप्रेस-वे को जल्द से जल्द चालू करवाने के लिए मुलाकात भी की है।

चंबल एक्सप्रेस-वे मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और राजस्थान राज्यों में प्रस्तावित छह लेन का एक्सप्रेस-वे है। एक्सप्रेस-वे राजस्थान में कोटा को उत्तर प्रदेश में श्योपुर और मुरैना जिलों के माध्यम से इटावा से जोड़ेगा। 417 किमी लंबा प्रस्तावित एक्सप्रेस-वे मध्य प्रदेश के माध्यम से कानपुर से कोटा तक एक वैकल्पिक मार्ग प्रदान करता है और फिर दिल्ली मुंबई कारिडोर में शामिल होता है। प्रस्तावित चंबल एक्सप्रेस-वे की कुल लंबाई 417 किमी है।

अधिकृत सूत्रों ने बताया कि चंबल एक्सप्रेस-वे की प्रस्तावित परियोजना क्रास-कनेक्टिविटी प्रदान करेगा। स्वर्णिम चतुर्भुज का दिल्ली-कोलकाता कारिडोर के साथ उत्तर-दक्षिण कारिडोर के साथ पूर्व-पश्चिम गलियारा के साथ और दिल्ली-मुंबई-एक्सप्रेस-वे के साथ यह मध्य प्रदेश के माध्यम से कानपुर से कोटा तक एक वैकल्पिक मार्ग भी प्रदान करेगा।

पढ़ें-योगी के मंत्री ने समाजवादी पार्टी पर कसा तंज, कहा- 2024 में सपा का सफाया तय

Advertisement