उर्सला अस्पताल के वार्डों में भरा पानी, मची भगदड़..

0
18

Advertisement

कानपुर, अमृत विचार। उर्सला अस्पाल में बुधवार को भ्रष्टाचार का झरना फूट पड़ा। झमाझम बारिश के बीच डक्ट में कचरा भरने से प्रथम थल पर स्थित वार्ड और भूतल के वार्डों में पानी भर गया। ऐसा लग रहा था मानों लाखों लीटर पानी एक साथ वार्ड सात और आठ में वार्ड में बहा दिया गया हो। वार्डों में भर्ती मरीजों और तीमारदारों में अफरातफरी का माहौल उत्पन्न हो गया।

Advertisement

आनन फानन में बिजली काटी गई और फिर आपरेशन के बाद वहां भर्ती मरीजों को बाहर निकाला गया। दो घंटे तक पानी वार्डों में भरता रहा। मुख्य चिकित्साधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, डायरेक्टर और ड्रेसिंग रूम में भी पानी भर गया। बारिश थमी तो पानी निकाला गया और फिर वार्डों और कार्यालयों को साफ कराया गया। फाल सीलिंग के गिरने का खतरा भी उत्पन्न हो गया।

Advertisement

अस्पताल के वार्ड सात और आठ में उन मरीजों को भर्ती किया जाता है जिनका ऑपरेशन होता है। 30 से ज्यादा मरीज वहां भर्ती थे। उनके तीमारदार भी बैठे हुए थे। दोपहर में अचानक तेज झोंके के साथ वार्ड में पानी भरने लगा। सीढ़ियों से पानी झरने की शक्ल में बह रहा था और प्रशासनिक अफसरों के कार्यालय में भी भर गया। वार्डों में पानी भरता देख मरीज और तीमारदार परेशान हो गए। किसी को समझ ही नहीं आया कि क्या हो गया। जैसे ही अफसरों को जानकारी हुई उन्होंने पहले बिजली कटवाया और फिर मरीजों को वहां से शिफ्ट कराया। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. अनिल कुमार ने बताया कि मरीजों को वहां से शिफ्ट करा दिया गया है।

हैलट में भी भरा पानी
हैलट अस्पताल में भी पानी भर गया। यहां मरीजों को एक वार्ड से दूसरे वार्ड में ले जाने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ा। इमरजेंसी वार्ड व अन्य वार्डों में पानी भरने से लोग परेशान हुए।

यह भी पढ़ें –मेरठ : कॉमनवेल्थ ग्रेम्स से मायूस होकर लौटेंगी सीमा पूनिया…जानें वजह

Advertisement