उपद्रवियों को रुमाल दिखा कर हिंसा को भड़काने वाला…

कानपुर। यूपी के कानपुर में जुमे को लेकर हुई हिंसा मामले में SIT के हाथ एक बड़ी सफलता लगी है। बतादें कि जुमे को लेकर हुई हिंसा में उपद्रवियों को रुमाल को दिखाकर इशारा करने वाले आरोपी को SIT ने अरेस्ट कर लिया है।

Advertisement

कानपुर हिंसा मामले में आरोपी अजीम ने उपद्रवियों को रुमाल से इशारा कर चंद्रेश्वर हाते पर हमला करने के लिए कहा था। उपद्रवियों की भीड़ होते ही अंदर घुस कर पथराव, फायरिंग और बम फेंके थे, जिसमें कई निर्दोषो की जान जोखिम में पड़ गई थी। बता दें कि आरोपी अजीम बाबा बिरयानी के मालिक मुख्तार बाबा का करीबी बताया जा रहा है। मामले को लेकर कानपुर पुलिस को इस बात के भी सबूत मिला हैं कि अजीम हाथ में कलावा और माथे पर तिलक लगाकर घूमता था।

बतादें कि बेकनगंज थाना क्षेत्र स्थित यतीमखाना, नई सड़क में बीते शुक्रवार 3 जून को भाजपा नेता नुपुर शर्मा के विवादित बयान के बाद हिंसा भड़क गई थी। दोनों पक्षों के बीच जमकर पथराव, फायरिंग और पेट्रोल बम चले थे। पुलिस ने मास्टर माइंड हयात जफर और उसके साथी जावेद अहमद खान, मो सूफियान और मो राहिल को जेल भेजा था। कानपुर हिंसा में 58 उपद्रवियों की अरेस्टिंग हो चुकी है। कानपुर हिंसा प्रायोजित थी, इसके सुबूत एसआईटी के हाथ लगे हैं।

हाथ में कलावा बांधकर रूमाल दिखाकर किया इशारा

भड़की हिंसा को लेकर कानपुर में बीते 3 जून शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद भीड़ इकट्ठा होकर जुलूस के रूप में नई सड़क की तरफ निकल पड़ी थी। इसी दौरान अजीम हाथ में कलावा बांधकर चंद्रेश्वर हाता के बाहर खड़ा हो गया था। ताकि हाते के लोग समझे कि हमारी तरफ से है। अजीम ने जैसे ही रुमाल से इशारा किया, उपद्रवियों की भीड़ चंद्रेश्वर हाते पर टूट पड़ी। हाते में घुसकर पत्थरबाजी, लाठी-डंडो से लोगों की पिटाई की थी।

आरोपी अजीम शुक्ला नाम से जाना था

रुमाल सो ईशार देने वाला आरोपी अजीम एक अधिवक्ता के यहां मुंशी का काम करता है। लंबे अर्से से काम करने की वजह से सभी लोग उसे शुक्ला के नाम से पुकारने लगे थे। अजीम खुद भी अपने आप को अजीम शुक्ला बताता था। अजीम हाथ में कलावा बांधत था। लेकिन कभी-कभी माथे पर तिलक भी लगाता था। SIT ने अजीम से पूछताछ की तो पता चला कि वह मुख्तार बाबा का करीबी है। बिल्डर हाजी वसी, बाबा बिरयानी रेस्टोरेंट के मालिक मुख्तार बाबा समेत अधिकतर आरोपी हाता को खाली कराना चाहते थे। जिसके चलते इस भड़की हिसां को अंजाम दिया था।

पढ़ें-जुमे की हिंसा के विरोध में कानपुर में सड़कों पर उतरे बजरंग दल के कार्यकर्ता, ‘पत्थरबाजों होश में आओ’ के लगाये नारे