ईंटों से कूच कर ऑटो ड्राइवर की थी निर्मम हत्या…जानें पूरा मामला

Advertisement

लखनऊ । पीजीआई क्षेत्र में ऑटो चालक की निर्मम हत्या करने के मामले में पुलिस को बड़ी सफलता हासिल हुई है। पुलिस ने इस हत्याकांड के मुख्य हत्यारोपी को चंदन मिश्र को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया है। बता दें कि इस हत्याकांड में पुलिस ने दो नामजद समेत पांच लोगों के खिलाफ संगीन धाराओं मे मुकदमा दर्ज किया था। इसी मामले में नवयुक्त पुलिस आयुक्त एसबी शिरोडकर ने पीजीआई थाना प्रभारी देवेंद्र विक्रम सिंह पर लापरवाही बरतने के आरोप सस्पेंड कर दिया था।

Advertisement

गौरतलब है कि 31 जुलाई की रात करीब एक बजे पीजीआई थानाक्षेत्र के उतरठिया बाजार में तेलीबाग के रहने वाले ऑटो ड्राइवर सुभाष पाल की दबंगों ने हत्या कर दी थी। इसके बाद उसका ऑटो भी क्षतिग्रस्त कर दिया था। सुभाष की मौत के बाद परिजनों ने पांच लोगों के खिलाफ हत्या की तहरीर देते हुए पीजीआई कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया था।

Advertisement

परिजनों को आरोप था कि एक महीना पहले अवैध स्टैंड पर शुल्क देने के विरोध में सुभाष की कुछ लोगों ने पिटाई की थी और उसे जान से मारने की धमकी दी थी। बता दें कि सुभाष मूलरूप से बाराबंकी जनपद में निवासी था। वह तेलीबाग क्षेत्र में अपने बड़े भाई रवि पाल के साथ एक किराए के मकान में रहता था।

इस सम्बन्ध में डीसीपी पूर्वी प्राची सिंह ने बताया कि पुलिस सुभाष हत्याकांड के मुख्य हत्यारोपी चंदन मिश्र की गिरफ्तारी की है। बता दें कि 31 जुलाई की रात ऑटो टकराने के विवाद चंदन और सुभाष की लड़ाई हुई थी। इसके बाद चंदन ने ईंटों से कूच कर सुभाष को मौत के घाट उतार दिया था। तफ्तीश के दौरान दीपक मिश्र और मोनू दीक्षित का भी नाम पुलिस ने दर्ज किया है। पुलिस हत्यारोपियों की तलाश में दबिश दे रही है। फिलहाल हत्यारोपी फरार चल रहे हैं।

यह भी पढ़ें- लखनऊ : खून से लथपथ मिला ऑटो ड्राइवर का शव, परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

Advertisement