इत्र कारोबारी पीयूष जैन की बढ़ी मुश्किलें, मनीलॉन्ड्रिंग का केस दर्ज

0
20

Advertisement

कन्नौज। यूपी के कन्नौज में पीयूष जैन जो इत्र के कारोबारी पीयूष है उनकी मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने पीयूष जैन के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। सूत्रो की मानें तो ईडी पीयूष जैन के कन्नौज स्थित आवास और प्रतिष्ठान समेत देश के तमाम शहरों में उसके ठिकानों पर जल्द छापा मार सकती है। इसके अलावा ईडी पीयूष जैन की करोड़ों रुपए की संपत्तियों को अटैच कर सकती है।

Advertisement

आपको बता दें कि पीयूष जैन के ठिकानों पर छापेमारी कर डीडीजीआई ने 197 करोड़ रुपए नगद और 23 किलो विदेशी सोना बरामद किया था। जिसके बाद पीयूष जैन के खिलाफ डीडीजीआई और डीआरआई ने दर्ज एफआईआर कराई थी। डीडीजीआई ने पीयूष जैन पर 31.5 करोड़ की टैक्स चोरी का आरोप लगाया थाष। इससे पहले इत्र कारोबारी को इलाहाबाद हाईकोर्ट से जमानत मिली है। हालांकि उसे अपना पासपोर्ट सरेंडर करना होगा। विपक्षी के पक्ष में एक करोड रुपए गारंटी के तौर पर बैंक में जमा करने होंगे।

Advertisement

पीयूष जैन से जब्त 197.49 करोड़ रुपये केस प्रॉपर्टी है, टर्नओवर नहीं: डीजीजीआई

मामले को लेकर जीएसटी खुफिया महानिदेशालय (डीजीजीआई) ने बीते साल छापे के बाद एक बयान में कहा था कि कानपुर के कारोबारी पीयूष जैन के दो परिसरों से बरामद कुल नकदी 197.49 करोड़ रुपये हैं। डीजीजीआई ने टर्नओवर वाली बात का खंडन करते हुए कहा है कि यह केस प्रॉपर्टी है, न कि उनकी कंपनी का टर्नओवर, कानपुर के इत्र कारोबारी पीयूष जैन के यहां छापेमारी के बाद डीजीजीआई का यह बयान सामने आया है।

डीजीजीआई के एक अधिकारी ने कहा था, “विशिष्ट खुफिया जानकारी के आधार पर सबसे अधिक पेशेवर तरीके से जांच की जा रही है. पीयूष जैन के आवासीय एवं फैक्ट्री परिसर से चल रहे मामले में नकद राशि को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की सुरक्षित अभिरक्षा में केस प्रॉपर्टी के रूप में रखा गया है और आगे की जांच बाकी है. ओडोकेम इंडस्ट्रीज द्वारा अपनी कर देनदारियों के निर्वहन के लिए जब्त धन से कोई कर बकाया जमा नहीं किया गया है और उनकी कर देनदारियों का निर्धारण किया जाना बाकी है।”

पढ़ें-Kanpur Raid: बढ़ीं पीयूष जैन की मुश्किलें, घर पर मिले दो अंडरग्राउंड बंकर, घरवालों को भी नहीं थी इसकी जानकारी…

Advertisement