HomeHealthइंडिया में मिला मंकीपॉक्स का मरीज ,जानिए इसके लक्षण और बचाव के...

इंडिया में मिला मंकीपॉक्स का मरीज ,जानिए इसके लक्षण और बचाव के उपाय

इंडिया में मंकीपॉक्स संक्रमण का पहला केस केरल के कोल्लम शहर में देखा गया है केरल के स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया की UAE से केरल लौटे एक इंसान में मंकी पॉक्स के लक्षण देखे गए है यह व्यक्ति UAE में मंकीपॉक्स से संक्रमित एक इंसान के संपर्क में आया था इसे जांच के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भेजे गए थे मरीज को हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है और उसका इलाज चल रहा है  

PIC
WHO के अनुसार दुनियाभर के कई देशों में इस समय कोरोना के अलावा और भी कई गंभीर बिमारियों का कहर फ़ैल रहा है दुनिया के 27 देशों में मंकीपॉक्स के करीब 800 केस सामने आ चुके है राहत की बात यह है की अभी एक कीसी की मोत नहीं हुई है 
अमेरिका के CDC के अनुसार यह मंकीपॉक्स वायरस के संक्रमण के कारण होने वाली एकल दुर्लभ बीमारी है यह ऑर्थोपॉक्सवायरस जींस से संबंधित है जिसमें वेरियोला वायरस ,वेक्सीनिया वायरस और काउपॉक्स वायरस शामिल है अभी तक यह साफ नहीं हुआ है की मंकी वायरस कहा से फैलना शुरू हुआ है 
मंकीपॉक्स में चेचक जैसे ही लक्षण नजर आते है यह बीमारी बुखार के साथ शुरू होती है जिसके बाद सिर दर्द पीठ में दर्द ठंड लगना थकावट इसकी इन्क्यबेशनअवधि बुखार 1 से 3 दिन के बीच होती है जो धीरे -धीरे बढ़ती है और फिर झड़ जाते है यह रोग 2 से 4 सप्ताह तक रहता है 

PIC
मंकीपॉक्स एक जूनोटिक बीमारी है यानि यह वायरस जानवरों से मनुष्यों में फैलने की क्षमता रखता है यह बॉडी में स्किन के घाव श्वसन पथ आँख नाम या मुहं के माध्यम से प्रवेश करता है पशु से मानव में रोग का संचरण काटने खरोचने और घाव के संपर्क में आने से हो सकता है 
अन्य वायरस और बिमारियों की तरह अगर आप सावधनियां बरती जाएं तो मंकी पॉक्स से बचा जा सकता है जानवरों के संपर्क में आने से बचे जो वायरस फैला सकते है हाथों की सफाई का ध्यान रखें 

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments