अब तहसील सदर के लेखपाल ने रिश्वत लेकर कागजों में छुपाई…

0
46

बरेली, अमृत विचार। तहसीलदार शेर बहादुर सिंह के अर्दली द्वारा 1.80 लाख रुपये रिश्वत में लेकर नोटों को गिनने का वीडियो वायरल होने के बाद तहसील सदर में भ्रष्टाचार का एक और मामला सामने आया है। प्रदीप कुमार नाम के लेखपाल का वीडियो सामने आया है। उस वीडियो में लेखपाल दो सौ रुपये लेकर कागजाें में छुपाते साफ नजर आ रहा है।

Advertisement

वीडियो में रुपये देने वाले का चेहरा नहीं दिख रहा है लेकिन लेखपाल की हंसी से झलक रहा है कि कई अन्य लोग वहां पर मौजूद थे। रिश्वत लेने का वीडियो तहसील में सीलिंग कार्यालय के पीछे झोपड़ी के पास का बना होने की चर्चा हो रही है। एसडीएम सदर कुमार धर्मेंद्र ने मामले में जांच बैठा दी है। इसमें तहसीलदार सदर को जांच अधिकारी नियुक्त कर पूरी रिपोर्ट तलब की है।

शनिवार देर शाम तहसीलदार को पत्र जारी करते हुए एसडीएम सदर ने कहा है कि लेखपाल के साथ वीडियो में दिखने वाले सभी लोगों को नोटिस जारी कर पूछताछ करें। रिश्वत किसने और किस काम के लिए दी। रिश्वत लेने की बात पुष्ट होने पर लेने और देने वाले दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज कराएं। एसडीएम ने बताया कि कुंवरपुर बंजरिया में तालाब पर मकान बनाने के मामले में रिश्वत लेने की बात सामने आ रही है लेकिन जांच के बाद सच सामने आएगा।

उसके बाद इस प्रकरण में कार्रवाई की जाएगी। उल्लेखनीय है कि तहसीलदार सदर पद से हटाए गए शेर बहादुर सिंह और उनके अर्दली अबरार अहमद पर भ्रष्टाचार के मामले में कुछ दिन पहले कोतवाली में एफआईआर दर्ज हुई। अर्दली का रिश्वत लेकर नोट गिनने के वायरल हुए वीडियो के कारण तहसीलदार शेर बहादुर सिंह भी फंस गए। इससे अन्य अधिकारी भी घबराए हैं।

 

भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने को तहसील परिसर में कैमरे लगेंगे

बरेली। एसडीएम सदर कुमार धर्मेंद्र ने बताया कि तहसील में कुछ अराजक तत्व भी दिन में घूमते हैं जो रुपये देने के साथ वीडियो बनाकर ब्लैक मेल करते हैं। इसमें लेखपाल या तहसील के अन्य कितने कर्मचारियों की संलिप्तता रहती है, इसकी तह तक जानने के साथ भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए तहसील परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। जल्द कैमरे लगाने की तैयारी है।

लेखपाल सिर्फ दो दिन तहसील में, अन्य दिनों में फील्ड में रहेंगे

बरेली। एसडीएम सदर ने बताया कि शनिवार सुबह करीब 9 बजे तहसील के सभी लेखपालों के साथ बैठक की और उन्हें निर्देश दिए गए कि तहसील में सिर्फ दो दिन बैठेंगे। अन्य दिनों में लेखपाल फील्ड में रहेंगे। जो भी तहसील में बिना अनुमति के मिला तो उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। दोनों दिन भी तहसील के दो बड़े हालों में कैमरे की निगरानी में लेखपाल लोगों से मिलेंगे। ताकि उनकी निगरानी की जा सके। लेखपालों को निर्देश दिए हैं कि रिश्वत लेने और देने वाले दोनों पर कार्रवाई होगी। इसलिए ऐसा कोई काम न करें, जिसमें निलंबन की कार्रवाई करनी पड़े।