SHARE

नई दिल्ली। हाल ही में BSF जवान का एक वीडियो वायरल हुआ था। जिसके बाद से ही ये मुद्दा टूल पकड़ता जा रहा है। BSF के तेजबहादुर ने वीडियो बना सोशल मीडिया पर डाला था जिसमे उसने दिखाया किस तरह जवानों को घटिया खाना खिलाया जाता है। अब तेजबहादुर के बाद एक और CRPF जवान ने सोशल मीडिया पर वीडियो अपलोड कर भारत सरकार से गुहार लगाई है। इस वीडियो में जवान एन अपना नाम कांस्टेबल जीत सिंह बताया है। वह एक CRPF का जवान है।

गृहराज्य मंत्री हंसराज अहीर ने इस वीडियो को मद्दे नज़र रखते हुए कहा है की जवानों की वजह से हम सब और पूरा देश सुरक्षित है और जवानों के साथ कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए। अहीर का कहना है की उन्होंने वीडियो देखा है और आदेश जारी किये हैं की पता लगाया जाए वीडियो कहा से फिल्माया गया है। फिलहाल इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है की यह वीडियो कहा फिल्माया गया है।

बताई अपनी पीड़ा

जीत सिंह नाम के जवान ने वीडियो के जरिए अपनी पीड़ा व्‍यक्‍त करते हुए कहा है कि वह सीआरपीएफ में कार्यरत है। उसने बताया कि सीआरपीएफ के जवान देश में विषम परिस्‍थितयों में अपनी ड्यूटी देते हैं।  लोकसभा चुनावों से लेकर ग्राम पंचायत के चुनाव में सीआरपीएफ के जवानों को तैनात किया जाता है। उसने कहा कि कश्‍मीर से लेकर छत्‍तीसढ़ के जंगलों, वीवीआईपी-वीआईपी सिक्‍युरिटी, एयरपोर्ट, मंदिर-मस्‍जिद और बाजारों में भी सीआरपीएफ के जवान अपनी सेवा देते हैं बावजूद इसके उन्‍हें दी जाने वाली सुविधाएं नाकाफी हैं।

पीएम मोदी से लगाई है गुहार

वायरल हुए इस नए वीडियो में जीत सिंह ने सरकार से मांग की है कि सीआरपीएफ के जवानों के साथ भेदभाव बंद किया जाए। उसने मांग की है कि सेना के जवानों की तरह ही सीआरपीएफ के जवानों को भी पेंशन सुविधा, मेडिकल सुविधा, कैंटीन की सुविधा प्रदान की जाए। जीत सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी का ध्‍यान अपनी मांगों की तरफ आकृष्‍ट किया है।
वीडियो में सीआरपीएफ जवान ने यह भी कहा कि जहां एक तरफ देश में शिक्षकों के लिए अच्‍छी तनख्‍वाह के साथ-साथ परिवार के साथ पर्व-त्‍यौहार मनाने के लिए छुट्टियों की सुविधाएं मिलती हैं वहीं सीआरपीएफ जवानों के साथ भेदभाव क्‍यों अपनाया जाता है। जवान ने सेना और सीआरपीएफ के जवानों को मिलने वाली सुविधाओं में अंतर को भी बताया है।
loading...
loading...